घोंसला

घोंसला

नभचर का ठिकाना

घोंसला

JEEVAN - घोंसला
बनाया नभचर ने ठिकाना घोंसला

तिनका तिनका ढूंढ़कर

सहेजा

घने पत्तों के बीच
घोंसला

सर्द-गर्म हवाओं, बरसात

और बंदर-सांप, चील-कौओं से बचने के लिए

बनाया नभचर ने ठिकाना

घोंसला

फिर भी बिखर गया घोंसला
आंधी आई न सर्द हवाओं ने सताया

बादलों ने भी रहमत ही बरसाई

बनाया नभचर ने ठिकाना  घोंसला
बनाया नभचर ने ठिकाना घोंसला

बंदर भी मस्त रहा फल तोड़कर

सांप को भी प्रकृति ने

दिये मेंढक

चील-कौओं ने बस्तियों के बाहर ज

माया डेरा
जहां मानव फेंक रहे *मानवीयता*

मानव की कुल्हाड़ी का शिकार बना

घोंसला

Advertisements

जीवन

जीवन

कदमों की लड़खड़ाहट

लाठी की ठक ठक

खांसी की धसक

गति-प्रगति का संकेत

कितना दौड़े-भागे

अनहद है जीवन

जीवन अभी शेष

kavita - जीवन  -- कदमों की लड़खड़ाहट  लाठी की ठक ठक
kavita जीवन -- कदमों की लड़खड़ाहट

होळी जितरै तो गुलाल उडै र्ह

sir pranam...holi ki ram ram जय गणेश   कट कलेश .... जय श्री कृष्ण ... बरसते रहें खुशियों के रंग निर्विघ्न ... जय श्री कृष्ण... होली की ढेरों बधाई व शुभकामनायें ...जीवन में आपके सारे रंग चहकते ,महकते ,इठलाते ,बलखाते ,मुस्कुराते ,रिझाते व हसाते रहे..
sir pranam ... holi ki ram ram जय गणेश कट कलेश .... जय श्री कृष्ण ... बरसते रहें खुशियों के रंग निर्विघ्न ... जय श्री कृष्ण... होली की ढेरों बधाई व शुभकामनायें ...जीवन में आपके सारे रंग चहकते ,महकते ,इठलाते ,बलखाते ,मुस्कुराते ,रिझाते व हसाते रहे..

होली:-  होळी माथै कहावतां जोई तो अेक पोथी मायं सूं अे पांच मिली।
1 – होळी जितरै तो गुलाल उडै र्ह।
होली तक तो गुलाल उड़ेगी ही।
2 – होळी दिवाळी ई कोई घाट रांधीजै !
होली – दिपावली जैसे त्योहार पर घाट जैसा घटिया भोजन नहीं बनाया जाता।
3 – होळी तो कपूतां सूं सुधरै।
होली का त्योहार तो कुपात्रों से ही सुधरता है। वे ही ज्यादा उधम मचा कर त्योहार को उत्साहवर्द्धक बनाते हैं।
4 – होळी बळवा री बखत, कुण सी बाजै बाय। पूरब दिस री जे हुवै, राजा परजा सुख पाय।
होळी मंगळाते (दहन) समय यदि पूर्व दिषा की वायु हो तो राजा और प्रजा के लिए षुभ होती है।
5 – होळी बीती सावण आयो, पांचै बीती पख बोळायो।

दाहर * ऐतिहासिक सिन्धी नाटक * ख़ास बात ये कि इसमें ७ वीं शताब्दी में सिंध में हुवा जौहर शामिल है जो सिन्धुपति दाहर कि वीरांगनाओं ने किया…

सिन्धी नाटक

दाहर

नाटक –  पेषु नाटक दाहर राजस्थान सिन्धी अकादमी जयपुर जी मैगजीन रिहाण में कुझु साल अगु छपयो हो। खास गाल्हि इया कि इनि नाटक में सिन्ध में सतीं षताब्दी जी षुरुआत में थिअलि जौहर बि षामिल आहे। सिन्धियूनि जे बलिदान खे वेसारण वारे माण्हूनि लांइ असांजो फर्जु आहे त पहिंजी कौम जा गौरवषाली सुफा उननि जी अख्यूंनि अगियूं आनियूं। महरबानी – मोहन थानवी

दाहर
ऐतिहासिक सिन्धी नाटक
मोहन थानवी

पात्र

दाहरसेन
सूर्यदेवी
परमाल
कासिम
खलीफा
सिपाही-दरबारी
मुस्तफा
और सहयोगी पात्र

प्रॉपर्टी

राजा-महाराजाउनि  एं खलीफाउनि जेहिड़ा ऐतिहासिक वगा,
ढाल-तलवार-भाले वगैरह लड़ाईय जो सामान। वारनि में पायणि जी पिन। वारी।

कथानक

सन् 712 जे टाइम में सिन्धु जो वली  दाहर  अरब खलीफा सां विरहन्दे-विरहन्दे शहीद थी वियो। उनजी धीउरनि सिन्धु जे अपमान जो बदलो वठणि एं पाणि खे खलीफा सां बचाइणि जे लाय बगदाद में खलीफा जे कब्जे में हून्दे बि सिन्धु में कासिम खे चालाकीअ सां माराये छजो। खलीफा बि उननिजी तारीफ करणि सां पाणि खे रोके कोन सगियो। उन बि सिन्धु माता खे मथो नमायो।

ब अखर

हजारनि सालनि वारी संस्कृति एं सिन्धी बोलीअ वारी असांजी सिन्धु जी महिमा जेतरी चवजे ओतरी घटि आहे। इया सिन्धु एं असांजे हिन्दुस्तान में को फर्क कोने।  ऐतिहासिक तथ्य बुधाइन्था, हिन्दुस्तान इ सिन्धु आहे। हाणे भलि धरतीअ जो इयो टुकुरु बे मुल्क जो भांङों चवायजे थो पर असांजी सिन्धु जेहिड़ो दुनिया में बियो को बि कोने इया गाल्हि बि पंिहजी जगह ते सच आहे। कहाणी या नाविल लिखणि में एं मंचित करणि लाय एकांकी लिखणि में जेको फर्क आहे, उवो रंगमंच जो कलाकार, निर्देशक इ न बल्कि पढ़णि एं दिसणि वारो बखूबी समझे थो। कहाणी एं उपन्यास में उवे गाल्हियूं बि शामिल थी वेन्दियूं आहिनि जेके साधारण तौर रंगमंच ते साकार करणि दुख्यिो कमु आहे। इया एकांकी लिखणि वेल मूहिंजे कलम इननि हदनि खे ध्यान में रख्यिो आहे। तंहिं हून्दे बि निर्देशक पंहिंजी सहूलियत एं वाचणि वारा प्रबुद्ध वाचक पंहिंजी सहूलियत ध्यान में रखी इन रिथियलि ‘दाहरसेन’ खे दिसन्दा त मुंहिंजे लिखणिजी कमियूं दूर थी वेन्दीयूं। सिन्धु जी संस्कृतिअ जी महिमा बुधाइन्दड़ ही एकांकी मातृभूमि सां सिक-प्रेम जी आखिरी हदनि का बि पार ताईं पहुंचाए थी।
– मोहन थानवी
पहिरियों सीन दरबार

सूत्रधार: सिन्धु जी महिमा बुधाइन्दड़ इन नाटक में सन् 710 – 712 जे विच जी गाल्हि आहे। ब्राह्मण राजा  दाहर  सिन्धु जी खैरख्वाह लाय मशहूर हुयो। उन बुधो हुयो त ब-टे सौ सालनि खां अरब सिन्धु ते चढ़ाई कन्दा रहिया आहिनि। सिन्धी वीरनि उननि खे सिन्धु में हिक साह बि खरणि कोन दिनो हुयो। अरब खलीफा जे हुकुम ते मुहम्द बिन कासिम पाणि सां फौज खणी सिन्धु जे मथूं चढ़ी आहियो। हू शेरान जे रस्ते सिन्धु डांह वध्यिो। मकरान जे रस्ते एं समुढ़ जे रस्ते उवे देवल बंदरगाह ताईं पहुंता। बंदरगाह जो नुमाइन्दो ज्ञान बुद्ध उननि जो सामनो कोन करे सगियो। किले जो वदो दर खोले छजाईं। कासिम जी फौज जुल्म कया। जालिनि एं बारनि खे
मारे छजाऊं। बौद्ध मंदिरनि में भंग-तोड़ कयूंव। मसजिदूं ठाहे छजाऊं।
सिन्धु जे वलीअ  दाहर  खे खबर पई त —-

दाहर  – खलीफा जी ऐतरी हिम्मत। सिन्धु डांह नजर खणनि जो गुनाह थो करे। उनखे असां कदहिं कोन बख्शदा से।
हिक दरबारी – साईं। माफी ज्यिो त —
दाहर  – चवो – जेको चवणो आहे बेखौफ थी चवो।
दरबारी – साईं। सिन्धु जे जवाननि में जोश आहे। उननि जी रत उबरे थी। तव्हां पंिहंजे साहितकारनि खे, कविनि खे देशभक्तिअ जा गीत सिन्धु जी कुड-कुड़झ ताईं पहुंचाइणि जो हुकुम ज्यिो त इयो जज्बो सभिनी जवाननि खे हथ में ढाल-तलवार खणनि जे लाय काफी रहिन्दो।
दाहर  – हा, ठीक चवो आहे तो। राजदरबार मूं इनाम इकराम वड़तल सभिनी लेखकनि खे इयो कमु अजु खां ई शुरू करणि जो हुकुम बुधाये छजो। सिन्धु जी कुंड-कुड़झ में देशभक्तिअ जो दरिया वहणि घुरजे।

सिन्धुजी भक्तिअ जा गीत गूंजनि था। आवाजूं अचनि थ्यिूं – असांजी सिन्धु डांह जेको अख खणी दिसन्दो, उनजी अख कढ़ी डेलनि खे खाराये छदबी। इन मुल्क जी वारीय ते जेको गंदे इरादे सां पैर रखन्दो उनजो सिर कपे वापस मोकलबो। असांजी सिन्धु डांह बुरी नजर खणनि जी सजा सिर्फ मौत आहे। सिर्फ मौत।
थोड़ो वक्त गुजरे थो।

दरबारी – साईं। सिन्धु जो हिक-हिक जवान लड़ाईय लाय मैदान में आहे।
दाहर  – पंहिंजी सिन्धु लाय सभु मैदान में हून्दा त इन डांह दिसणि जी खलीफा त छा उनजी सत पुश्तनि जी हिम्मत कोन थीन्दी।
दरबारी – साई। पक्की खबर लगी आहे त खलीफा सिन्धु जे जवाननिजी देशभक्तिअ ज्यिूं गाल्हियूं बुधी पहिरियूं त पहिंजी फौज खे वापस घुराये वड़तो पर वरी चालाकी सां उनखे वरी मोकले रहियो आहे।
दाहर  – दुश्मन जी ताकत खे कमजोर कोन समझजे। हू चालाकीअ सां गदि कुझ ऐहड़े माणहूनि खे बि बरगलाये सघन्दो आहे, जेके सिन्धु जी पवित्रता सां वाकिफ कोन आहिनि। मूखे अलाफी, मोक्षवास एं शमनीअ ते पूरो भरोसो कोने। उननि ते नजर रखणि जरूरी आहे।

हिक दरबारी दुकन्दो अचे थो। साह खणी  दाहर  खे बुरी खबर बुधाये थो।
दरबारी – साईं धोखो। धोखो थ्यिो आहे। सेनापति शमनी, मंत्री मोक्षवास एं अलाफीअ खलीफा जी फौज खे नदी एं पुल पार करायणि में मदद कई आहे। उननि खे बेड़ियूं दिन्यूं अथवूं। फौज चढ़ी आई आहे। सिन्धु जा जवान उन फौज सां विरनि अथा।
दाहर  – मंुंहिंजी तलवार घणनि दिहनि खां चमकणि लाय तरसे थी। कंहि जी मजाल आहे जो हाणे उन तलवार खे दुश्मननि जो रत पीयणि सां रोके सघे।

दाहर  एं सिन्धजा जवान लड़ाईय जे मैदान डाह वं´नि था।

बियो सीन लड़ाईअ जो मैदान

सूत्रधार: अलोर में महाराजा  दाहर  पहिंजे सिन्धु जे जवाननि जो हौसलो वाधाइन्दो दुश्मन अरब फौज सां विड़े थो। तलवारियूं चमकनि थियूं। चारों तरफ मारो-काटो, बचणि कोन दिन्दो में वगैरह-वगैरह आवाजियूं आहिनि। ऐहरे माहौल में  दाहर  खे उनजो हिक
गुप्तचर खबरु थो देस, महाराज, माफी दिन्दा। दुश्मन खेमे मूं खबर पेई आहे त
मोक्षवास सिन्धी जवाननि जी हिम्मत दिसी घबरायजी वियो आहे एं कोई ऐहरी
चालबाजी करणि थो चाहे जेका तव्हां जे लाय सुठी कोन हून्दी। तव्हां हमेश सुचेत रहिजो। महाराजा इन समाचार खे ध्यान सां बुधो पर वीर भूमिअ जो पुटि थी करे हू घबरायणि वारो कोन हूयो। उन पहिंजी जान जी परवाह करे बगैर पंहिंजे जवाननि जे विच में दुश्मन फौज जे सैनिकनि खे मारणि चालू रख्यिो। चालबाज दुश्मन लड़ाईअ जा उसूल विसारे
एं महाराजा  दाहर  जे तेज सां घबराइजी करे ऐहरी चाल
हल्यईं जंहिंमें कंहिं वीर सपूत खे काबू करणि दुख्यिो
कोन हुयो छो जो वीर हमेश बियूनि
जो भलो इ चाहिन्दो आहे। लड़ाईअ जे मैदान में दुश्मननि जे हथ पयलि सिन्धु जी माईयूनि जो मदद काणि सदि बुधी  दाहर  उननि खे बचायणि अकेलो दुश्मननि में घिरी थो वं´े–

दाहर  – जवान मुर्स आहियो। घबरायजो न। जिथे तव्हां खे लगे दुश्मन मजबूत आहे उते मूखे सदि कजो। हर वख्त तव्हां जे अगियूं मां हून्दमि।
हिक जवान – महाराज, तव्हां मैदान में पंहिंजी तलवार चमकाये भीठा आहियो, असांजी हिम्मत जे लाय इयो इ काफी आहे।
दाहर : बुधो, दिसो — दुश्मननि जे हथ सिन्धु जा गाणा लगी विया आहिनि। भेनरिनि जो सदि मूखे हिति बीहणि कोन थो दे। मां उननि माईयूनि खे छदाये अचां थो।
जवान: असां मूं चार जणा तव्हां सां गदि हलू था।
दाहर : हलो, जय सिन्धु। जीये सिन्धु।
जवान: महाराज, महाराज असां सभु तव्हां जेहिड़ी बिजलीअ वांङुर तेजीअ सां कोन था हली सघूं। तव्हां अकेला दुश्मननि में न घिरी वं´ो।
बियो जवान: महाराज, तव्हां ताईं मूहिंजी आवाज अचे थी या न। तव्हां अकेला हुति न वं´ों।
टियों जवान: ओह महाराज त हाणे नजर कोन था अचनि।
जवान: महाराज जी रक्षा करणि वारी असांजी सिन्धु माता आहे। सिन्धुजी वारीय में रांद कयलि महाराज दुश्मननि जे हथ लगयलि माईयूं छदाए करे इ दम वठन्दो।

लड़ाईय जे मैदान जे बियें डांह- चार-पंज माईयूं – बचायो-बचायो। असांखे बचायो।

दाहर  – मां हिति अची पहूंतो आहियां। हाणे तव्हां खे अरब कुझ कोन चई सगिन्दो।
हिक माई – महाराज, तव्हां हिति अकेला आया आहियो या तव्हां सां गदि सिन्धु जा मुर्स आहिनि।
दाहर  – जिथे मां आहियां उते सिन्धु जा मुर्स आहिनि। जिते सिन्धु जा मुर्स आहिनि उते समझो त मां बि आहियां।
माई – पोय त समझो तव्हां बि असांजे हथ लगी वयव।

उवे माईयूं पहिंजो असली रूप दिखारनि त्यिूं। असल में उवे दुश्मन जी फौज जा माणहू आहिनि। उवे  दाहर  खे चौधारो घेरे था वठनि। तलवार एं भालनि सां  दाहर  उननि जो मुकाबलो थो करे हू अकेलो हून्दे बि बिनि – चवइनि खे मारे थो छजे। पर अकेलो  दाहर  आखिरु पुजी कोन थो सघे – उनजो सिन्धु जी वारीय सां प्रेम इन वक्त बि दिसणि जेहिड़ो आहे। दुश्मन जा माणहू बि उनजो सिन्धु-प्रेम दिसी पहिंजो मथो नमनि था। —

दाहर  – आह! सिन्धु माता, तुहिंजी कछ में वदा थिया आहियूं पर कदहिं धोखो करणि कोन सिख्यिो। इननि अरबनि माईयूनि जो रूप बणाए मूखे तोखां जुदा करणि जी चाल हली आहे। मूखे मरणि जो दुःख कोने। सिन्धु माता मां तोजी कछ में पहिंजा प्राण थो जां इन्हींअ जी खुशी आहे। मां पंहिंजे साह बाकी रहणि तांणी दुश्मन खे सिन्धु जी वारीअ ते पैर कोन रखणि दिनमि। हाणे माता मां तूहिंजे हवाले। तूहिंजी रक्षा करणि वारा सिन्धु वीर बिया भाउर भी आहिनि। भगवान उननि खे ताकत दिन्दो एं तोखे दुश्मननि जे हवाले कोन थियणि दिन्दो। जय सिन्धु माता।
हिक दुश्मन: अल्लाह! महाराज अकेलो थी करे बि सवनि ते भारी हूयो। इन जेहिड़े मुर्स खे धोखे में मारणि जो गुनाह माफ कजें।
बियो दुश्मन: परवरदिगार। मंुहिंजा गुनाह कदहिं माफ कोन कंदो। पंहिंजी मातृभूमि सां ऐतरो प्रेम करणि वारे वीर जवान खे मूं पहिंजे आकाउनि जे चवे ते धोखे में मारियो आहे। इनजी सजा मूंजी सतनि पीढ़िनि खे मिलन्दी।
सभई दुश्मन: अल्लाह।  दाहर  जेहिड़ी वतन जी भक्ति असां खे छो कोन दिनी अथई। महाराज  दाहर  तव्हां दुनिया रहणि तांणी वीर सपूतनि जा अगूवा रहिन्दव।

टियो सीन कासिम जो दरबार

सूत्रधार:  दाहर  जो सिन्धु जे लाय वीरगति प्राप्त करणि जो समाचार बुधी रनिवास में महाराणी लादीबाईअ तलवार हथनि में खरणि जो ऐलान कयो। इयो बुधी सिन्धुजा वीर जवान बीणे जोशो-खरोश सां दुश्मन जे मथूं चढ़ी विया। महारानी लादीबाई उननि जी अगुवा हुई। उनजो आवाज बुधी दुश्मन जे सैनिकनि जी हवा खराब पेई थे। ऐहड़े वक्त में कुछ देशद्रोही अरबनि सां मिली विया। महाराणीअ जे सलाहकारनि उनखे बचणि जा रस्ता बुधाया पर सिन्धुजी उवा वीर राणी बचणि जे लाय न बल्कि बियूनि खे बचायणि जे लाय जन्म वड़तो हूयो। उन दुश्मन जे हथ लगणि खां सुठो त भाय जे हवाले थियणि समझो। सभिनी सिन्धी ललनाउनि मुर्सनि जे मथूं दुश्मन जो मुकाबलो करणि जी जिम्मेवारी रखी। पाणि जौहर कयवूं। इन विच इनाम जी लालच एं पहिंजी जान बचायणि जे लाय देशद्रोहिनि राजकुमारी सूर्यदेवी एं परमाल खे कैद करे वड़तो। पर जुल्मी वधीक हूया। उवे किले में घिरी आहिया उननि कासिम जे दरबार में बिनी राजकुमारियूनि खे पेश कयो-

कासिम: सिन्धु जे किले ते फतह करणि में असांजा घणाइ जांबांज मारजी विया आहिनि।
हिक सिपाही: हुजूर राजकुमार जयसेन खे उनजे वफादारनि हिफाजत सां बे डांह कढ़ी छजो। उननि खे ब्राह्मणाबाद एं अलोर डांह वेन्दे दिठो आहे। उवे वेन्दे-वेन्दे बि असांजे जवाननि खे मौत जे घाट लाइन्दा विया।
कासिम: खुदा कसम, सिन्धिनि जेहिड़ो वतन जो जज्बो पहिरियूं कोन दिठो हूयो।
सिपाही: हुजूर, किले मूं ब राजकुमारियूं तव्हांजी खिदमत में पेश करणि लाई आनियूं आहिनि।
कासिम: उननि राजकुमारिनि खे कंहिं बचायणिजी कोशिश कोन कई?
सिपाही: जिननि कई, उननि खे तलवारजी धार दुनिया छदाए दिनी। जिननि राजकुकारिनि खे कैद करणि में मदद कई उननि खे इनाम में मौत दई छजी से।
कासिम: हा हा हा। जिन्दगीअ जी मंजिल त हिक आहे, मौत। पर इनजा रूप जुदा जुदा आहिनि। को मरी करे शहीद थो थिए त को दोही थी थो मरे।
सिपाही: हुजूर, राजकुमारियूं भी घटि आफत कोननि।
कासिम: अच्छा। छा कयवूं।
सिपाही: हुजूर उननि अठनि-अठनि जवाननि खे पहिंजी छाया ताई कोन अचणि दिनो। कुख मूं तलवार कढ़ी उननि जो मुकाबलो कयवूं। चार जवान त उननि बी मारे छजा।
कासिम: खुदा कसम। सिन्धु जो पाणी पी करे जदहिं ऐहिड़ी हिम्मत राजकुमारिनि में आहे त इतूं जे जवाननि जो मुकाबलो करणि त दाढ़ो दुख्यिो हुयो।
सिपाही: तदहिं त हुजूर पोयनि अढ़ाई सौ सालनि में सिन्धु जी वारीय ते असां पैर कोन रखी सगिया से।
कासिम: हाणे बी कोन रखी सघूं आ। इयो त वतन जा दुश्मन ही वतन खे असांजे हवाले करे विया। उननि वतन जे दुश्मननि खे बी मौत जो इनाम दिनो वं´े।
सिपाही: हुजूर, जाल में कैद कयलि राजकुमारियूं दरबार में हाजिर कयूं था।
कासिम: हा, उननि खे जाल में बधयलि इ मूंजे सामूं वठी अचजो। हणी न मूखे कूहीं रखनि।

सिपाही बियूनि सिपाहिनि खे इशारा करे थो। कुझ वक्त में राजकुमारियूं जाल में कैद थियलि अचनि थियूं। उननि डांह दिसणि बी कासिम खे दकाए थो। राजकुमारियूं ऐहड़े क्रेाध खौफनाक नजरिनि सां सभिनी खे घूरे करे दिसनि थियूं।

कासिम: अल्लाह कसम। छा हुस्न आहे। जादू आहे जादू। अरे सिपाही, हूर जो चेहरो त खोल, दिसां चंड कींअं नजरे थो।

सिपाही हिक राजकुमारीय जे मूंह ते ढकयलि पोती लायणि जे लाय उननि जे करीब वं´ेे थो त राजकुमारी उनखे हिक लत हणी केरे थी छजे। बे सां बि इयं इ ती करे। पोय त को सिपाही उननि जे करीब वं´णि जो हौसलो न थो बधे।

कासिम: छदो–छदो। इननि खे मौत जी परवाह कोने। इये त असांखे मौत दियणि लाय उबारीयूं बीठीयूं आहिनि। इननि खे लुटयलि मालोअसबाब सां गदि खलीफा वटि मोकले दिबो।
सिपाही: हा इयो ठीक रहिन्दो। इननि जे हुस्न जो जादू दिसणि खां अगि मरी वं´णि खूं त खलीफा वटि इननि आफतनि खे मोकलणि सुठो आहे।
कासिम: इननि खूं पूछो। इये मादरे वतन छदनि खां अगि कोई मन जी गाल्हि करणि चाहिनि थियूं?
सिपाही: नूर-ए-आफताब, तव्हां खे अजु जहाज में लुटियलि मालअसबाब सां गदि खलीफा वटि अरब मोकेलबो। तव्हां खे कुझ चवणों हूजे त हुजूर कासिम जी खिदमत में चई थियूं सघो।
परमाल: बुधें थी सूर्य कुमारी।
सूर्य कुमारी: हा भेणि, बुधां थी। इननिजी मौत इननि खे पुकारे रही आहे।
परमाल: इननि सिन्धु जी धीयरनि खे हथ लगायणि जी गुस्ताखी कई आहे। इननि महाराजा दाहिरसेन खे माईयूनि जो रूप बणाए धोखे सां मारे पहिंजा गुनाह वाधाया आहिनि।
सूर्य कुमारी: इनि गुस्ताखीअ जी सजा इननि खे असांखे देहणी आहे।
परमाल: इन करे असां खे मादरे वतन जी वारी खपन्दी। इन वारीय ते इता वं´णि खां पोय कदहिं पैर रखी सघन्दा से?
सूर्य कुमारी: सिपाही, तोहिंजे आका कासिम खे लत हणी चई छदेसि। असां सिन्धुजी धीयरि आहियूं। असां खे इतां व´णि खां अगि इतूं जी वारी पल्ले में बधणी आहे।
सिपाही: हुजूर, इननि खे सिर्फ सिन्धुजी वारीय सां प्रेम आहे। इये पल्लव में वारी बधणि थियूं चाहिनि।
कासिम: भलि-भलि, इननि जी इतां वं´णि खां अगि इया इच्छा पूरी कयोनि।
सूर्य कुमारी: तो जेहिडे जालिम जो मुकाबलो करणि जे लाय त सिन्धुजी असां धीयरि काफी आहियूं। दाहिरसेन जी रियाया तोखे छदन्दी कोन। तो जेका जुल्म सिन्धु भूमिअ ते कया आहिनि इननि जी सजा तोखे जल्दी मिलन्दी।
कासिम: इननि खे इतां जल्दी वठी वं´ों। इननि जी अख्यिूनि में काल वेठो नजरे थो।
सिपाही: हलो आफताब ए राजकुमारियूं।
सूर्यकुमारी: भेणि, ब्रगदाद में खलीफा जे सामूं खबर नाहें त असांसा छा सुलूक थे। मां पंंिहंजे वारनि में जहरजी पिन रखी आहे।
परमाल: मुंहिंजे वारनि में बि जहर में बुदयलि पिन आहे।
बई हिक साणि: जुल्मी कासिम, धोखे सां तो सिन्धु जी बाहं अरब खलीफा खे दिनी आहे। दिसजें तोखे उवो इ खौफनाक मौत दिन्दो।

सिपाही उननि खे छिके करे वठी था वं´नि। राजकुमारियूं वेन्दे-वेन्दे नारा थियूं लगाइनि। सिन्धुमाता जी जय। सिन्धु माता सभिनी जी लज रखजें। दुश्मननि खे हिति वसणि कोन दिजें। जय सिन्धु।

चौथों सीन खलीफा जो दरबार बगदाद में

सूत्रधार: सिन्धुजी वीर धीयरनि खे जुल्मी जहाज में सिन्धु मूं लुटयलि मालोअसबाब सां गदि बगदाद कोठे विया। उनजा सिपाही राजकुमारियूनि खे दरबार में पेश था करणि। खलीफा राजकुमारियूनि जो हुस्न दिसी वायरो थी वियो। उननि सां गदि सिन्धु मूं लुटयलि सोने-चांदीअ जा गाणा एं हीरा जवाहरात दिसी खलीफा नचणि थो लगे। उनखे इया बि खुशी हुई त सिन्धु ते हाणे उनजो राज आहे इन करे हू दरबार में जलसा थो करे।  दाहर  जियूं धीयरि इते चालाकीअ सां कमु वठी पहिंजे दुश्मन कासिम खे माराये थियूं छदनि। इन सां गदि उवे खलीफा जे सिपाहिनि खे बि मारे पाणि जो सत बचाइनि थियूं। उननि जी हिम्मत एं शहीद थियणि ते खलीफा बि सिन्धु खे मथो नमाये थो।

खलीफा: हा हा हा। ऐदा गाणा। ऐदा हीरा जवाहरात। वाह! वह! बियो छा आहे।
मुस्तफा: हुजूर इन असबाब सां गदि सिन्धु जा ब आफताब हीरा आहिनि।
खलीफा: उननि खे पेश कयो वं´ें।
मुस्तफा: (तारी वजाए करे) सिन्धुजा बेशकीमती हीरा पेश कया वं´नि।

चार सिपाही राजकुमारियूनि खे बेड़िनि में पेश था कयनि। बई पाणि में सलाह मशविरा करनि थियूं। इशारनि में इयं थूं चवनि जण त इते खलीफा सां समझौतो करे उवे उनजे जुल्मनि जो मुबाबलो करणि जे लाय उबारीयूं आहिनि।

खलीफा: वाह! छा हुस्न आहे। हुस्न परी। तव्हां जो रूप दिसी मां पहिंजे मथूं काबू न थो रखी सघां।
मुस्तफा: हुजूर इननि मूं इया आहे सूर्य कुमारी एं इया परमाल।
खलीफा: तहजीब सां नालो वठो इननि जो। शहजादी चवोनि। शहजादी।
मुस्तफा: बेख्यालीअ में कयलि गुनाह जी माफी दिन्दा हुजूर।
खलीफा: अगिते ऐहड़ी चुक कोन थियणि घुरजे। शहजादी, मूं तव्हां खे महलात जो सजो हरम बख्शे छदिदमि। सिपाही – इननि खे बेड़िनि में छो बधो अथव। खोलोनि।
सूर्यकुमारी: असांखे खोलणि में छा थिन्दो। तव्हां जंहिं करे असांजे मथा मेहरबानि थिया आहियो, उवा गाल्हि असांसा लुकयलि कोने।
परमाल: तव्हां सां धोखो कयो वियो आहे। धोखो करणि वारा तव्हां जा ई माणहू आहिनि।
खलीफा: मूसां गदि धोखो। कंहिंजी हिम्मत थी आहे पंिहजो सिर देहणि जी।
सूर्यकुमारी: तव्हां जो सिन्धु में तैनात कयलि कुत्तो।
खलीफा: यानी कासिम!
परमाल: हा उवोई कुत्तो।
खलीफा: छा धोखेबाजी कई अथईं उनि।
सूर्यकुमारी: उनि असांखे जूठो करे तव्हांजे सामूं पेश कयो आहे। असांखे तव्हां सां शादी करणि लायक कोन रख्यिो अथई।
परमाल: उनि जोर-जुल्म सां असां खे बधी करे असांजी मर्जीअ जे बगैर असांजे बदनि खे हथ लगयाणि जो गुनाह कयो आहे।
सूर्यकुमारी: ऐतरो इ न उन त सिन्धु में पंहिंजी पसंद जी हर शय ते बुरी नजर रखी आहे।
खलीफा: कासिम, कनीज जी औलाद। गुस्ताख, तुहिंजी ऐतरी हिम्मत जो मुंहिंसां धोखेबाजी करें। मुस्तफा । कासिम खे दांड जी ताजा लथयलि खलि में सिभाए करे मुंहिंजे सामूं पेश कयो वं´े।

खलीफा हुक्म दई करे हलियो थो वं´े। सिपाही खलीफा जे हुक्म जी तालीम जे लाय वं´नि था। राजकुमारियूं पाणि में गाल्हियूं थ्यिूं करणि।

सूर्यकुमारी: खलीफा असांजी चाल में अची वियो आहे।
परमाल: सिन्धु सां गद्दारी करणि वारे जी मौत खां पोय असां बि इन जहान खे छदणि जी कंदियूं से।
सूर्यकुमारी: हा, इन खलीफा जो नापाक हथ असांजे बदनि ताई पहुंचे उनखां अगि असां पहिंजे वारनि में लुकयलि जहर में बुदयलि पिन सां मौत खे कुबूल कंदियूं से।
बई: जय सिन्धु माता। लज रखजें सिन्धु माता। जय सिन्धु।

पंजों सीन खलीफा जो दरबार बगदाद में

सूत्रधार: सिन्धु जो वली  दाहर  जेको अरब खलीफा सां विरहन्दे-विरहन्दे शहीद थी वियो हुयो उनजी धीउरनि खे भला कोई नापाक नजरनि सां कीअं दिसी सघंदो हुयो। जंहि ऐहिड़ी गुस्ताखी कई एं सिन्धु सां गद्दारी कई उन खे राजकुारिनि ऐहड़ी मौत दिनी जेहिंखे दुनिया रहन्दे बुधणि वारो विसारे कोन सघंदो। सिन्धु जे अपमान जो बदलो वठणि एं पाणि खे खलीफा सां बचाइणि जे लाय कासिम खे चालाकीअ सां माराये छदणि खां पोय शहजादिनि दरबार में तलवारियूं छिके सिपाहिनि खे बि मौत जो तोहफो दिनो। खलीफा बि उननिजी तारीफ करणि सां पाणि खे रोके कोन सगियो।

खलीफा: सिपाही – तूं खाली हथ मुंंिहंजे सामूं छो आयो आहें। कुत्तो कासिम तोसां गदि छो कोन आयो।
मुस्तफा – हुजूर। उवो दांद जी खल में रस्ते  में इ मरी वियो। उनजी लाश कब्रिस्तान में रखयलि आहे।
खलीफा – रस्ते में इ मरी वियो। सुठो थियो। उनजे रत सां असांजी तलवार नापाक कोन थी।
मुस्तफा – हुजूर। सिन्धु में असांखे इया गाल्हि बुधणि में आई त कासिम बेकसूर हुयो।
खलीफा – इयो कीअं थी सघंदो आहे। शहजादिनि खे पेश कयो वं´ें।

शहजादियूं खिलन्दियूं अचनि थियूं।

खलीफा: शहजादी, असां ही छा था बुधू त कासिम बेकसूर हुयो!
सूर्य कुमारी: तूं मूर्ख आहें खलीफा। असां सिन्धु जी लाड़लिनि खे केरु हथ लगाए सघंदो आहे।
परमाल: हथ लगायणि त परे जी गाल्हि आहे, नजर खणी दिसणि वारनि खे असां रत में सिनानि कराए छदन्दियूं आहियूं।
सूर्य कुमारी: सिन्धु सां गद्दारी करणि वारो बेकसूर कीअं थी संघन्दो आहे! क्ककासिम सिन्धु सां गद्दारी कई। असां बदलो वड़तो।
खलीफा – गुस्ताख शहजादी। तव्हां खे मां हिक रात खां पोय पंहिंजे सिपाहिनि खे दई छदिन्दुसि। मुस्तफा – इननि धोखो कयो आहे। पकड़े वठोनि। घोड़े जी पूछ सां बधी करे बगदाद जी सणकनि ते घसीटोनि।

मुस्तफा एं सिपाही राजकुमारियूनि खे पकड़नि जी कोशिश था करनि। शहजादियूं जय सिन्धु जो नारो लगान्दियूं उननि सिपाही ज्यिूं तलवारियूं छिके थियूं वठनि। सिन्धु ज्यिूं वीर लाड़लियूं सिपाहिनि खे मौत तोहफे में थियूं देनि।

खलीफा: मुस्तफा – तीरन्दाज खे सदि करो। इननि आफतनि सां उवोई पूजी सघंदो।
सूर्यकुमारी: परमाल भेणि, असांजो बदलो पूरो थियो।
परमाल: हा भेणि। हाणे इननि जे हथूं मरणि खां अगि पाणि जहर में बुदियलि पिन सां पंहिंजा प्राण दई छदूं त इननि खे असांखे मारे न सघणि जो मलाल बि थिये।
सूर्यकुमारी: हा, इननि विदेशी अरब जे हथूं मरणि खां त पहिंजी सिन्धु जी उन पिन सां मरणि सुठो आहे जेका असां जहर में बोड़े गदि खणी आहियूं।

बई पहिंजे वारनि मूं पिन कढ़ी पंहिंजे बदनि में चुभायनि थियूं। मरणि खां अगि पल्लव में बध्यिलि सिन्धुजी वारीय खे पंिहंजे मथे ते तिलक वांङुर लगाइनि थियूं। जय सिन्धु जे घोष सां बई हमेश जे लाय सिन्धु जी कछ में समायजी थियूं वं´नि। खलीफा इयो दिसी हिक दफो त बुत थो ठई वं´े। ऐतरे में सिपाही हिक तीरन्दाज खे गदि वठी था अचनि।

मुस्तफा: हुजूर तीरन्दाज अची वियो आहे।
खलीफा: हिति हिक तीरन्दाज त छा असां सभु अरब मिली करे बि सिन्धुजी वारीय सां प्रेम करहन्दड़ शहजादिनि जो मुकाबलो कोन करे सघूं आ।
मुस्तफा: हुजूर! इननि पंहिंजी जान दई छजी!
खलीफा: गुस्ताख। सिन्धुजी धीयरनि जे लाय तहजीब सां लफ्ज इस्तेमाल कर। शहजादिनि जी मिट्टीअ खे सम्मान सां ब्रगदाद में इननि जे ईष्ट खे दिनो वं´े। इननि जी रीति जेका हूजे उवा पूरी थियणि घुुरजे।
मुस्तफा: जेको हुक्म हुजूर।
खलीफा: सिन्धु भूमि तोखे प्रणाम। मुस्तफा, याद रखजंहि। कौम उवाई जिन्दह रहन्दी आहे जेका पहिंजे वतन सां प्रेम कन्दी आहे एं पहिंजी संस्कृति एं मादरे वतन जे लाय बहादुरीअ सां शहीद थिहणि जाणंदी आहे। सूर्य कुमारी एं परमाल महाराजा  दाहर  जो इ न बल्कि सिन्धुजो नालो रोशन कयो आहे। मां इननि खे प्रणाम थो कयां। इननि खां अगि सिन्धुमाता खे मुहिंजो प्रणाम।

सूत्रधार: वीर सिन्न्धीनि जी भूमि सिन्धुअ ते जायलि कौम कदहिं पहिंजी संस्कृति एं बोलीअ खे विसरी कोन सघन्दी आहे। इया आखाणी अजु खां तेरह सौ साल पहिरियूंकी आहे। इन विच में सिन्धु एं सिन्धीनि ते केतराई जुल्म थिया। सिन्धीनि खे पहिंजी सरजमीन छदणी पई पर अजु बि मादरे वतन जो जज्बो कायम आहे। हाणे असांजे लाय हिन्द इ सिन्धु आहे। जय सिन्धु – जय हिन्द।
– मोहन थानवी

ओफ़…पूर्णिमा का चाँद…!!! लेकिन ऍक और भी है….अधूरी ख्वाहिशों का अधूरा चाँद…!!! देखें…आधा चांद….

BAHUBHASHI
poet

आधा चांद….
आधा चांद चांदनी बिखेरता
वह बच्चा उसे देखता
बच्चा युवा हो गया
चांद अब भी आधा रहा
उसकी चांदनी वैसी षीतल
उतनी ही चंचल
मगर बच्चे की चंचलता
उसकी आभा
उसका उल्लास
न जाने कहां खो गया
वह उसे ढूंढ़ने में दिन गुजार देता
फिर किराये के मकान की छत पर
देखता चांद को
वह मुस्करा रहा होता
वैसे ही, जैसे उसके बचपन में मुस्कुराता था
वह अपनी डिग्रियां उठाए
छत के कोने में बैठ जाता
ट्ांजिस्टर पर खबरें सुनता
दूसरे दिन फिर नौकरी की तलाष में निकलता
अपने चांद-से मुन्ने को चूमता
उसे कहता
बेटा आधा चांद पूर्णिमा को पूरा दिखेगा
हमारी अमावस बस अब पूर्णिमा में बदलेगी
अबोध मुन्ना मुस्कुरा देता, बिना कुछ समझे
क्रम चलता रहा
मुन्ना अपने मुन्ने को
वही कह रहा है
जो कभी मैंने उसे कहा था

कुपित प्रकृति की शांति के लिए सामूहिक प्रार्थना

कुपित प्रकृति की शांति के लिए सामूहिक प्रार्थना
आज खासतौर से जापान में कुपित प्रकृति के कहर से त्राहि त्राहि मची है और कुदरत के कहर से प्रभावितों को दुनियाभर से यथासंभव सहायता उपलब्ध करवाई जा रही है। टीवी चैनलों पर दहशतनाक मंजर देख दिल दहल रहा है लेकिन समाचार और दृष्य देखे बगैर भी रहा नहीं जा रहा। सच तो यह है कि लिखते हुए कलम के साथ दिल भी थरथरा रहा है। सिंधु / भारतीय संस्कृति में रचे बसे हम ही नहीं बल्कि लगभग सारी दुनिया में अनहोनी पर कहा और माना जाता है कि ईष्वरीय शक्ति / कुदरत के आगे किसी का बस नहीं चलता। ऐसे में शांति के लिए भगवान, कायनात के मालिक के आगे ही सहायता के लिए प्रार्थना की जाती है। ओम नमः शिवाय।
सिन्धु संस्कृति ही नहीं बल्कि सारी दुनिया में मान्यता है कि दवा से अधिक असर दुआ का होता है। आज कुपित प्रकृति कहर बरपा रही है। ऐसे में इस वक्ति प्रभावितों के लिए सामूहिक रूप से सहायता और प्रार्थना ऑक्सीजन के समान है। जापान सहित दर्जनों देष कुदरत के कहर की चपेट में हैं। दुनिया में हम भी षामिल हैं। समस्त विष्व और स्वयं अपने लिए..सामूहिक प्रार्थना करें। जिनकी जितनी सामर्थ्य है उनकी ओर से उतनी सहायता भी की जा रही है और सच तो यह है कि सामर्थ्यवानों की तुलना में हम मध्यम / निम्न वर्गीय अथवा गरीबी की रेखा से भी नीचे जीवनयापन करने वाले भाई-बहिनों की संख्या कई गुना अधिक है। हम सब मिलकर प्रार्थना करें तो निष्चय ही प्रकृति का कोप कम होगा बल्कि कुदरत हमें सुख-चैन भी बख्षेगी।
षुक्रवार 11 मार्च 2011 को जापान में कुदरत का कहर बरपा और तबाही मच गई। हालांकि कुदरत के आगे किसी का बस नहीं चलता लेकिन इनसान का फर्ज है ऐसे कहर से तबाह और प्रभावित मानव एवं प्राणीजगत के लिए तथा कायनात के लिए ईष्वरीय ाषक्ति से सामूहिक प्रार्थना करे, कोप से बचाने की दुआ की गुहार लगाएं। मालिक सबका भला करे।
रब, मालिक, अल्लाह, खुदा, ईष्वर, गॉड, प्रभु यीषु, गुरुनानक सामूहिक दुआ / प्रार्थना को जरूर कबूल करेंगे एवं कुपित प्रकृति शांत होगी। – आमीन।

अध्यात्म और प्रबंधन – 1 – कर्म, प्रबंधन और फल

अध्यात्म और प्रबंधन – 1 कर्म, प्रबंधन और फल
भीतर के द्वन्द्व और उमड़ते विचारों को षब्दाकार देना अज्ञान को दूर करने के लिए ज्ञान की खोज में षब्दयात्रा है। यह भी कि अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता भले ही हो लेकिन विचारों से किसी को ठेस पहुंचती हो तो अग्रिम क्षमायाचना। हां, विद्वानों का मार्गदर्षन मिल जाए तो जीवन सफल हो जाए।
भारतीय संस्कृति में जीवन की सफलता की खोज अध्यात्म के माध्यम से की जाती रही है। अध्यात्म में भी कुषल प्रबंधन को मैंने महसूस किया है तो इसके लिए कर्म किया जाना भी अनिवार्य लगा है। अध्यात्म में कर्म है ज्ञान प्राप्ति का प्रयास।  और जीवन की सफलता को फल कह सकते है।
जीवन प्रबंधन से ही व्यवस्थित और सुखमय हो सकता है। बिना प्रबंधन के तो चींटी भी नहीं जीती। चींटी ही क्यों, प्रत्येक प्राणी को समूह में जीते ही हम देखते हैं। ऐसा कोई प्राणी नहीं जो अकेला जीता हो या आज तक जीया हो। पेड़-पौधों को भी समूह में लहलहाना अच्छा लगता है क्योंकि वे भी बीज रूप से प्रस्फुटित होने से लेकर मुरझाने तक एक कुषल प्रबंधन प्रणाली से विकसित होते हैं, फल देते हैं। जीवन का मकसद ही फल देना है। गीता का संदेष है, कर्म किए जाओ फल की इच्छा मत करो… साथ ही यह भी कोई भी कर्म बिना फल का नहीं होता। जीवन का यही प्रबंधन है। विचार भी कर्म है। अच्छा विचारने से अच्छे की प्राप्ति होती है। मैनेजमेंट गुरु आज भी यही कहते हैं, सदियों पूर्व वेद-षास्त्र रचे जाने से पहले भी भारतीय संस्कृति के महर्षि ऐसा ही कहते रहे हैं। मूलमं़त्र ही यह है तो फिर भले ही दूसरे मंत्रों को रटते रहें, असर तो मूल को सिद्ध करने पर ही होगा। जिस प्रकार मंत्र सिद्धि के लिए ज्योतिष-योग-षास्त्र बीज मंत्रोच्चार को प्रथम सोपान मानता है उसी प्रकार अंक गणित, बीज गणित और रेखा गणित के भी मूल सिद्धांत हैं जिनके अनुसार प्रष्न हल न करने पर जवाब गलत ही मिलता है। प्रबंधन में बीजाक्षर है अनुषासन और आत्म विष्वास। हम जितना प्रयत्न करेंगे हमें उतना प्रतिफल मिलेगा। एक खेत में एक बोरी बीज बोने से यदि दो सौ बोरी अनाज पैदा हो सकता है तो चार सौ बोरी नहीं होगा और यह भी कि यदि अनुषासन से कृषि कार्य नहीं किया तो दो सौ बोरी भी उत्पादन नहीं होगा, हो सकता है बिल्कुल ही न हो लेकिन यहां भी गीता का संदेष याद आता है, कर्म किया है तो फल भी मिलेगा… यहां इस खेत के उदाहरण में वो फल खरतपवार, घास-फूस भी हो सकता है। अनुषासन, परिश्रम, आत्म विष्वास के माध्यम से लक्षित फल प्राप्ति में सफलता मिलती है लेकिन सवाल यह है कि कर्म किए जाओ फल की इच्छा मत करो… संदेष का क्या मतलब हुआ…! यदि फल की इच्छा ही नहीं करेंगे तो लक्षित फल प्राप्ति के लिए विचार करना भी गलत सिद्ध होता है। और यदि कर्मफल अवष्य मिलता है कथन को विचारते हैं तो फिर फल की चिंता किए बिना कर्म करने के संदेष को किस रूप में ग्रणह करें…! इसे माया कहें…! या… मंथन करें…!!!
…………..
अध्यात्म और प्रबंधन – 2 कर्म, प्रबंधन और फल…………..
अनचाहे, अनहोनी, अकस्मात आदि क्या है! ये भी कर्म से जुड़े हैं या माया का एक रूप है…। अनचाहे ही सही, कर्मफल अवष्य मिलता है कथन को विचारते हैं तो फिर फल की चिंता किए बिना कर्म करने के संदेष को किस रूप में ग्रणह करें…! इसे माया कहें…! या… मंथन करें…! अनहोनी ही होगा जब किसी कर्म का फल नहीं मिलेगा। यह भी सच है कि कर्म चाहे कितना ही सोच विचार कर किया जाए और फल मिलना भी चाहे तय हो जैसा कि गणित में होता है, दो और दो चार और सीधा लिखने पर 22 तथा भाग चिह्न के साथ लिखने पर भागफल एक मिलेगा ही लेकिन फिर भी अप्रत्याषित रूप से भी कर्म-फल मिलते हैं। जीवन में ऐसे पल भी आते हैं जब किसी मुष्किल घड़ी में अकस्मात ही कोई अनजान मददगार सामने आ खड़ा होता है। धर्म और अध्यात्म के नजरिये से आस्थावान के लिए ऐसी अनचाहे, अकस्मात, अनहोनी ग्राह्य होती है और अच्छा होने पर प्राणी खुष तथा वांछित न होने पर दुखी होता है। यह प्रवृत्ति है। विद्वजन सुसंस्कार एवं भली प्रवृत्ति के लिए भगवत भजन का मार्ग श्रेष्ठ बताते हैं और यह सही भी है। जिज्ञासा फिर यही कि भगवत भजन में रत रहकर स्वयं को प्रभु को समर्पित करना है और इसे कहा जाता है तेरा तुझको अर्पण…। स्वयं को समझना, जानना और प्रभु को अर्पित हो जाना। हालांकि विद्वजनों ने कर्म, प्रवृत्ति और वांछित – अवांछित आदि प्रत्येक पहलू पर विस्तृत अध्ययन-मनन कर अपने अपने मत रखे हैं जो अपने आप में अलग अलग परिस्थितियों में उचित प्रतीत होते हैं। यहां मीमांसा या समीक्षा करना मकसद नहीं वरन् जिज्ञासा है, अध्यात्म, प्रबंधन, कर्म और फल के प्रति। जिज्ञासा होना भी कर्मजनित हो सकता है। धार्मिक कार्यों को क्रियान्विति देने वाले और व्यापारिक कार्य करने वाले मनुष्य की प्रवृत्ति सभी विषयों में समान हो भी सकती है और नहीं भी। इसे पूर्व कर्मों या जन्मों में किए कर्मों का असर या फल मिलना भी कह सकते हैं जो ईष्वरीय षक्ति के प्रबंधन के सम्मुख न तो अनचाहे होता है, न ही यह अनहोनी है और न ही ऐसा अकस्मात ही होता है। इसे प्रारब्ध से जोड़ कर देखता हूं तो पौराणिक काल से रामायण काल और फिर महाभारत काल के बाद आज के आधुनिक काल तक की वैचारिक यात्रा पल के भी सूक्ष्मतम भाग में सम्पन्न हो इस वक्त संपादित हो रहे कर्म – बिन्दू तक आ पहुंचती है। इतनी दीर्घकालिक यात्रा को सूक्ष्म बना देने वाली षक्ति आखिर अपना अस्तित्व कहीं तो प्रकट करेगी। पौराणिक काल से अब तक काल गणना को बहुत ही सूक्ष्म और बहुत ही विषाल बिन्दू तक विद्वजनों ने समेटा है और ज्योतिष सहित विभिन्न ग्रंथों में इसका उपयोग किया है। यहां उल्लेख आवष्यक है कि समय पबंधन के नजरिये से ईष्वरीय षक्ति के प्रबंधन में ब्रह्माजी का एक दिन धरा के न जाने कितने दिन-रात पूरे होने पर बीतता है। संख्यात्मक विवरण की नहीं बात है जिज्ञासा की कि जिन ब्रह्माजी के एक दिन को विद्वजनों ने इतना विषाल बताया है उन्हीं ब्रह्माजी और उनके समकालीन अथवा व्यतीत कालों के देवाधिदेवों संबंधी काल गणना अथवा पौराणिक कथा-क्रम के बारे में अब तक भ्रम भी कायम है कि कितने वर्ष पूर्व ऐसा हुआ होगा। यकायक ऐसी अनुभूति होने को चमत्कार नहीं बल्कि अज्ञानता की श्रेणी में पाता हूं। अर्थात मेरी यह षब्द-यात्रा अज्ञानता को दूर करने के लिए ज्ञान की ओर बढ़ने का उपक्रम मात्र है। ऐसा क्यों है…! क्या यह कर्म के लिए प्रारब्ध के प्रबंधन के तहत है जो ईष्वरीय षक्ति संचालित कर रही है!!! हो सकता है जिज्ञासा को सही रूप से व्यक्त भी न कर पा सका हूं, बल्कि ऐसा ही है तब भी यह विचार प्रष्न की तरह घुमड़ता रहता है कि ब्रह्मा-विष्णु-महेष आदि ईष्वरीय षक्तियों का प्रबंधन कितना व्यवस्थित और सुदृढ़ है। अध्यात्म के विभिन्न पक्षों को जिस दृष्टि से देखता हूं गहराई तक केवल किसी एक ही पक्ष के भी किसी मात्र एक ही बिन्दू को समझने में ही असंख्य योनियों की यात्रा हो जाती है लेकिन निष्कर्ष से फिर भी वंचित रहता हूं। बावजूद इसके… अद्भुत अनुभूति जरूर होती है…संतुष्टि और सुख की। यही कर्म है तो फिर इसके प्रबंधन के अनुसार ऐसा ही विचारों को परिष्कृत कर देने वाला फल भी है लेकिन यात्रा जारी है और रहेगी… क्योंकि यह अनंत यात्रा है।