बच्चों ने महकाई सिंधीयत, गर्व से बोले – साईं, असां सिन्धी आहियूं

अचो भाऊ सिन्धीअ में गाल्हाइयूं, सिन्धीयत खे वाधायूं

बीकानेर 10 जून 2018। मुक्ताप्रसाद कॉलोनी में बच्चों ने जब अचो भाऊ सिन्धीअ में गाल्हाइयूं, सिन्धीयत खे वाधायूं का उद्घोष गुंजाया तो मौजूद सिन्धी समाज के लोगों ने सिन्धी अबाणी बोली गीत से माहौल में सिन्धीयत की खुशबू भर दी। जबकि महिला मंडली प्रतिनिधि कमलेश खत्री, कांता खत्री ने संत लीला शाह के भजन सुनाए। यह अवसर रहा भारतीय सिन्धु सभा महानगर के तत्वावधान में निशुल्क बाल सिन्धी संस्कार शिविर के समापन समारोह का। इस समारोह में अतिथि वक्ताओं ने प्रतिभागी करीब 25 बच्चों को प्रमाण पत्र, शिक्षण सामग्री प्रदान कर सम्मानित किया। शिक्षक हरीश भम्भाणी, किशोर मोतियानी, अतिथि हासानंद मूलचंदानी, अनिल तुलसियानी, लालचंद तुलसियानी ने बच्चों के द्वारा सिन्धी लोक कथाओं की प्रस्तुति को सराहा। बच्चों ने सिन्ध के महापुरुषों, संतों की जीवनी को सिघी गीतों के माध्यम से चार-चार के समूह में प्रस्तुत किया। इनमें झूलेलाल के अवतरण, सिन्धुपति महाराजा दाहरसेन, साईं पुरसनाराम, संत कंवरराम की जीवनी शामिल है।

हासानंद मंघवानी, केशव खत्री, राजकुमार मोटवानी, सुरेश केशवानी ने शिक्षकों व प्रतिभावान बालिकाओं को सम्मानित किया। सिंधु सभा महानगर अध्यक्ष किशन सदारंगानी ने बताया कि अनिल तुलसियानी ने सभी बच्चों को स्वीट एंड चॉकलेट का गिफ्ट हैम्पर भेंट किया। शिविर में पवन मोटवानी, चन्द्रभान चंदानी, भागचंद सदारंगानी आदि ने व्यवस्थाएं संभाली एवं अपनी सेवाएं दी। सदारंगानी ने बताया कि महानगर में आज इस तीसरे निशुल्क बाल सिन्धी संस्कार शिविर का समापन किया गया। धोबीतलाई में चौथे शिविर का समापन सोमवार को होगा।

– मोहन थानवी

Advertisements

Mansun Aage Badha Paschimi tat ke paas bharee Varsha

मानसून आगे बढ़ा पश्चिमी तट के पास भारी वर्षा तथा उत्‍तर बंगाल खाड़ी के ऊपर कम दबाव बना
  1. मानसून का आगे बढ़ा:

दक्षिण पश्चिमी मानसून मध्‍य अबर सागर के कुछ भागों, गोवा, कर्नाटक तथा रायलसीमी के शेष भागों, दक्षिण कोंकण के कुछ भागों, दक्षिण मध्‍य महाराष्‍ट्र, मराठवाड़ा, विदर्भ, दक्षिण छत्‍तीसगढ़ और दक्षिण ओडिशा, संपूर्ण तेलंगाना, तटवर्तीय आंध्र प्रदेश के कुछ हिस्‍सों की ओर बढ़ गया है। मानसून की उत्‍तरी सीमा अक्षांश 170 उत्‍तर/देशांतर 600 पूर्व, अक्षांश 170 उत्‍तर/देशांतर 700 पूर्व रत्‍नागिरी, सोलापुर, नांदेड़, अदीलाबाद, बैलाडीला, मलकानगिरी, कलिंगपट्टनम, अक्षांश 210 उत्‍तर/देशांतर 900 पूर्व अगरतला लुमडिंग, उत्‍तर लखीमपुर तथा अक्षांश 290 उत्‍तर/देशांतर 950 पूर्व से गुजरती है। (रेखाचित्र 1 )

अगले 48 घंटों में दक्षिण पश्चिम मानसून के लिए मध्‍य अरब सागर के कुछ हिस्‍सों, महाराष्‍ट्र (मुंबई सहित), छत्‍तीसगढ़, ओडिशा और तटवर्तीय आंध्र प्रदेश के शेष भागों की ओर बढ़ने की परिस्थितियां अनुकूल हैं।

2.मानसून के मजबूत होने से पश्चिमी तट के पास भारी वर्षा:

10 जून तक तटवर्ती कर्नाटक, गोवा और दक्षिण महाराष्‍ट्र में भारी वर्षा होने की संभावना है। कल से मुंबई सहित उत्‍तर तटीय महाराष्‍ट्र की ओर वर्षा हो सकती है। इस अवधि में इन क्षेत्रों में कुछ स्‍थानों पर भारी वर्षा होने की संभावना है। इन क्षेत्रों में वर्षा की स्थिति में 12 जून से सुधार होगा।

अगले पांच दिनों के लिए तिथिवार भारी वर्षा की चेतावनी:

हवा की चेतावनी:

8 से 12 जून के दौरान कोंकण और गोवा तटों के पास 40 – 50 किलोमीटर प्रति घंटा से 60 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से तेज हवाएं चलेंगी।

समुद्र की स्थिति:

8 से 12 जून के दौरान कोंकण तथा गोवा तटों से दूर अरब सागर के ऊपर तथा पश्चिम मध्‍य और सोमालिया तट से दूर पड़ोसी दक्षिण पश्चिम अरब सागर में समुद्र की स्थिति गंभीर रहेगी।

मछुआरेां को चेतावनी:

मछुआरों को सलाह दी जाती है कि वे 8 से 12 जून के दौरान कोंकण और गोवा तटों के पास पूर्व मध्‍य अरब सागर के साथ-साथ सोमालिया तट से दूर पश्चिम मध्‍य तथा पड़ोस दक्षिण पश्चिमी अरब सागर सागर में न जाएं।

3. निम्‍न दबाव प्रणाली का बनना:

अगले 24 घंटों के दौरान उत्‍तर बंगाल की खाड़ी के ऊपर निम्‍न दबाव बनने की संभावना है। इसके अगले 48 घंटों में तेज होने और फिर कमजोर पड़ जाने तथा बांगलादेश तट पार कर जाने की संभावना है।

भारी वर्षा की चेतावनी:

9 से 11 जून के बीच उत्‍तर ओडिशा, पश्चिम बंगाल तथा सिक्किम, असम और मेघालय में छिटपुट भारी से भारी वर्षा होगी।

हवा की चेतावनी:

9 से 10 जून के दौरान उत्‍तर बंगाल खाड़ी के आसपास और पश्चिम बंगाल, ओडिशा तथा बांगलादेश तटों पर 40 -50 से 60 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से तेज हवा चलने की संभावना है।

इस अवधि में उत्‍तर बंगाल की खाड़ी तथा पश्चिम बंगाल ओडिशा, बांगलादेश तथा म्‍यांमार के तटों पर समुद्री स्थिति गंभीर बनी रहेगी।

मछुआरों को चेतावनी:

मछुआरों को सलाह दी जाती है कि 9 तथा 10 जून को उत्‍तर बंगाल की खाड़ी में न जाएं।

व्यापारियों ने जताया भय :  एलिवेटेड रोड निगल जाएगी बीकानेर के मुख्य बाजार

बीकानेर । दीनदयाल सर्किल से रेलवे स्टेशन पुलिस चौकी तक प्रस्तावित एलिवेटेड रोड़ क्षेत्र के व्यापारियों का कहना है कि यह रोड बीकानेर के मुख्य बाजारों को निगल कर ही बनाए जाने की किसी की भी मंशा को वह कदापि पूरी नहीं होने देंगे, इसका पुरजोर विरोध करेंगे । व्यापारियों ने ऐसी स्थिति को हास्यास्पद बताया कि रोड कितनी फुट की बनेगी, दो लाइन बनेगी 3 लाइन बनेगी इसके बारे में प्रशासन को ही अभी तक कुछ मालूम भी नहीं है । सोमवार को महात्मा गांधी मार्ग स्थित शिवसागर में आयोजित प्रेस वार्ता में व्यापारी प्रतिनिधियों ने इस रोड को नहीं बनाने और रेल बाईपास बनाने की मांग को लेकर लेकर छह जून को बीकानेर बंद करने की घोषणा की है। बीकानेर व्यापार एसोसिएशन की ओर से आयोजित प्रेस वार्ता में जानकारी देते हुए अध्यक्ष नरपत सेठिया ने आरोप लगाया कि राज्य सरकार, जिला प्रशासन तथा नेशनल हाईवे ऑथोरेटी एलिवेटेड रोड़ प्रोजेक्ट के बारे में लगातार बीकानेर की जनता और व्यापारियों को गुमराह कर रहे है। शहर के भीतरी क्षेत्र के लोगों की समस्याओं को उठाते हुए कहा कि आज तक कोई ऑथोराइज्ड एजेंसी यह नहीं बता पा रही है कि पश्चिमी विधानसभा क्षेत्र के लोगों के सबसे ज्यादा काम आने वाले कोटगेट फाटक की समस्या का समाधान क्या होगा। सरकार की ओर से कोई भी विशेषज्ञ प्रस्तावित एलिवेटेड रोड़ का उपयोग किस प्रकार कर पाएंगे इसका कोई जवाब नहीं दे पा रहे है। संगठन के उपाध्यक्ष सोनू राज आसुदानी उमेश मेहंदीरत्ता श्याम कुमार तवर ने प्रस्तावित एलिवेटेड रोड मॉडल को प्रदर्शित कर बताया कि बीकानेर के निवासी इस रोड का निर्माण शहर के मुख्य बाजारों का विध्वंस कर कतई नहीं होने देंगे। सेठिया और उमेश मेहंदीरत्ता ने प्रशासन से मिली जानकारी के हवाले से बताया कि यदि बनती है तो चिन्हित की गई 400 से अधिकइमारतों की बड़ी संख्या में दुकानों में तोड़फोड़ होगी, और बीकानेर के ये मुख्य बाजार पूरी तरह नष्ट हो जाएंगे। यह रोड सुविधाजनक नहीं बल्कि मुश्किले पैदा करने वाली है। प्रेस वार्ता में सचिव उमेश महेंदीरता, सुशील अग्रवाल सोनू राज आसूदानी, श्याम कुमार तंवर, प्रेम खंडेलवाल, रवि पुरोहित सहित अनेकजने उपस्थित थे। – मोहन थानवी