बीकानेर के 21 खिलाड़ीयों का सिडलिंग इंटर स्कूल राज्य स्तरीय कराते प्रतियोगिता में चयन

बीकानेर के 21 खिलाड़ीयों का सिडलिंग इंटर स्कुल राज्य स्तरीय कराते प्रतियोगिता में चयन

बीकानेर जिला कराटे डू एसोसिएसन के खेल प्रबंधक डॉ. विवेक अग्रवाल ने बताया की जयपुर में सिडलिंग इंटर स्कुल राज्य स्तरीय कराते प्रतियोगिता का आयोजन तारीख 18 से 21 जुलाई तक किया जायेगा। जिसमें बीकानेर के विभिन्न स्कुलों से कराते के 21 खिलाड़ीयों का चयन एसोसिएसन के महासचिव व कोच सेंसई रियाजुदिन अंसारी के द्वारा किया गया। डॉ. अग्रवाल ने बताया की इस प्रतियोगिता में सेंसई रियाजुदिन अंसारी मुख्य रेफरी व जज की भुमिका निभायेगें। संस्था के अध्यक्ष कन्हैया मिश्रा व पदाधिकारी डॉ. रामप्रका लोहिया, जगदी गोदारा आदि ने खिलाड़ीयों के उज्जवल भविष्य की कामना की।

Advertisements

Watch “चेतावनी दे गई बरसात” on YouTube

चेतावनी दे गई बरसात

-✍️ मोहन थानवी

बीकानेर 16 जुलाई 2018 बीकानेर में सोमवार को शाम हुई बारिश ने चेतावनी दे डाली। बारिश कोई ज्यादा नहीं हुई। बावजूद इसके सड़कों पर पानी जमा रहा । लोगों को आने जाने में परेशानी हुई। पहले करीब 15 से 20 मिनट तक झमाझम हुई फिर जारी रही रिमझिम और उसके बाद शाम सात बजे फिर जोरदार झड़ी लगी जो काफी देर चली। इस कारण पॉश कॉलोनियों की गलियों में भी पानी भर गया। रेलवे स्टेशन के सामने, डाक बंगले के आगे, केईएम रोड, सूरसागर के पास से निकलने वाली सड़क, पुरानी गिनानी में आने जाने वाले रास्ते, एमएन अस्पताल के पास, गंगाशहर और सुजानदेसर के कुछ इलाके, लालगढ़, पीबीएम अस्पताल परिसर, व्यास कॉलोनी, एम डी वी नगर, मुक्ता प्रसाद कॉलोनी यहां तक की कलेक्ट्रेट के ठीक सामने। यह ऐसे कुछ इलाके हैं जहां पानी का ठहराव हो गया। जिससे लोगों को एकबारगी आवागमन रोकना पड़ा। निचले इलाके के मकानों में भी पानी निकासी एक बड़ी समस्या बनकर आन खड़ी हुई। यह पानी निकासी की व्यवस्था को लेकर बारिश की चेतावनी है। आने वाले समय में मानसून बरसेगा और बीकानेर में दो तीन चार अच्छी बारिश होगी तो सावन में झड़ी लगेगी तब सड़कों पर जमा पानी लोगों के आवागमन में बाधा बनेगा। घरों को नुकसान की आशंका रहेगी। बारिश होने पर यहां प्राय: नाले उफन जाते हैं। नालियां शहर के कई इलाकों में है ही नहीं क्योंकि सीवरलाइन का जाल बिछा हुआ है। और सीवर लाइन कब ब्लॉक हो जाए कहां चॉक हो जाए कुछ नहीं कहा जा सकता । मई-जून की भरी गर्मी के दौर में भी कुछ जगहों पर सीवर लाइन चॉक होने से पानी सड़क पर फैला हुआ दिखा था । कुछ मोहल्लों से तो दूषित पानी सप्लाई की भी शिकायतें आई थी । नगर निगम और दूसरे निकाय जो सुविधाओं के लिए जिम्मेदार हैं, समय रहते उन्हें सुविधाजनक कदम उठाने चाहिए ताकि आमजन को कम से कम परेशानी हो । यह सही है कि बारिश के कारण अच्छे-अच्छे टाउन की सड़कों व मोहल्लों में भी पानी भरता है, लेकिन इतना नहीं के घरों से बाहर निकलना भी दूभर हो जाए। बाजारों में गए लोग वापस अपने घर तक पहुंचने में पानी को बाधा मानने लगे। घर से जरूरी काम से बाहर निकलने वाले लोग इतना इंतजार करें कि पानी उतर जाए। बीकानेर के अलावा भी दूसरे शहरों में ऐसी स्थिति बन जाती है । पिछले दिनों मुंबई महानगर में भी बारिश के कारण ऐसे हालात बन गए कि लोग कुछ समय के लिए जहां के तहां थम-से गए। हालांकि वहां भारी बारिश हुई थी लेकिन बीकानेर में उसके मुकाबले जितनी कम बारिश सोमवार को हुई, उसने यह चेता दिया है कि इतनी बारिश भी अगर 15-20 घंटे के अंतराल से 2-4 दिनों में होती है तो निश्चित रूप से असुविधाएं बढ़ेगी।

( दैनिक युगपक्ष में )

Watch “दो मंत्रियों ने दिखाई हरी झंडी, बीकानेर – बिलासपुर – बीकानेर साप्ताहिक अंत्योदय एक्सप्रेस 🔞 डिब्बों के साथ हुई रवाना” 19 स्टेशनों पर रुकेगी on YouTube

*खबरों में बीकानेर*
🎤
*भुजिया-रसगुल्ला* की मीठी नमकीन बातों से माहौल हुआ मीठे-मीठे माहौल में रवाना हुई बीकानेर बिलासपुर बीकानेर साप्ताहिक अंत्योदय एक्सप्रेस बिलासपुर तक पहुंचने तक यह गाड़ी 19 स्टेशनों पर रुकेगी in station Mein Shamil Hai Suratgarh Hanumangarh Nohar Tehsil Bhadra Sadulpur Churu Ratangarh Sujangarh Degana Jaipur Sawai Madhopur guna malkhedi Sagar damoh Katni Murwara Shahdol Anuppur Junction
गाड़ी मैं कुल 18 कोच होंगे जिनमें 16 साधारण श्रेणी के और 2 पावर कार शामिल है

कृपालु संत : नाटक / Dada JP Vaswani / Sadhu TL Vaswani

कृपालु संत : Dada JP Vaswani / Sadhu TL Vaswani

(काव्यात्मक संगीतमयी नाटक) :

मोहन थानवी

कृपालु संत
साधु टी. एल. वासवाणी

श्रीगणेषाय नमः। जयश्री दादा ष्याम। सर्वषक्तिमान ईष्वर खे हथ बधी अरदास कन्दे मां कृपालु संत साधु टी एल वासवाणी साहिब खे नमन् करे आषीर्वाद तो घुर्यां – दादा साहिब, संतश्री, कृपा निधान, माण्हुनि जी दिलनि जो हालु जाणणि वारा कृपालु संत साहिब, मुहिंजी कलम में पहिंजी शक्ति भर्यो त तमाम दुनिया खे तव्हां जे बारे में बुधाइण लाइ सुहिणा ऐं दिल में वेहिजी वञण वारनि अखरनि खे कागरु ते साकार करे नाटक कृपालु संत: साधु टी. एल. वासवाणी रीथे सघां। जयश्री दादा ष्याम।

काव्यात्मक संगीतमयी नाटक

कृपालु संत
साधु टी. एल. वासवानी

ऊंधहि में सोझरो डेखारण वारो संत
जय दादा ष्याम। प्राणिनि जो उद्धार करण लाइ कृपालु संत साधुु वासवानी भारत जी सिन्धु भूमिअ ते सांसारिक स्वरूप में लीला करे आध्यात्मिक ज्ञान जी ज्योति माण्हुनि खे संभारे डई वियो। अटकल डेढ़ सौ साल अगु साधु वासवानी पहिंजे उपदेशनि में जेके गाल्हियूं चई वयो उवे दुनिया कायम रहण तांई माण्हुनि खे सुखी ऐं खुशीअ सां जीवन जीअण जी कला सेखारिन्दीयूं रहन्दियूं। कृपालु संत साधु वासवानी जे आध्यात्मिक ज्ञान सां न सिर्फ असीं भारतवासी बल्कि अमेरिका, जापान वगैरह विलायती मुल्कनि जा माण्हूं बि ऊंधाईअ में सोझरो हासिल करनि था। ऐहड़े कृपालु संत जे उपदेशनि डाहुं 90 खां वधीक ऊनारा-सियारा ऐं होली-ड्यारियूं डिसी चुक्या दादा जे. पी. वासवानी साहिब जो मन त छिक्यलि ही आहे, नई टहीअ जा जवान छोकरा-छोकरियूं बि दादा जे. पी. वासवानी साहिब जी दिलकश खिल सां गडु चयलि गाल्हियूंनि खे आत्मसात करे कृपालु संत साधु वासवानी जी हयातीअ जे असरु में आहे। सिन्धु संस्कृति ऐं सिन्धियत मार्फत दुनिया खे पुरातन भारतीय आध्यात्मिक ज्ञान सां वाकिफ कराइण वारे कृपालु संत डाहुं नई टहीअ जो मन छिकजण खुशीअ जी गाल्हि त आहे ही, गडोगडु इया मिसाल आहे, साधु वासवाणी मिशन पूना ऐं दादा जे. पी. वासवानी जे उननि कमनि जी कामयाबीअ जी, जेके उननि कृपालु संत साधु वासवानी खे समर्पित करे उननि जे ई ऐम खे पूरो कन्दे प्राणिनि जे उद्धार लाइ कया आहिनि। अजु भारत ऐं विदेश जा छोकरा-छोकरियूं साधु वासवानी ऐं दादा जे. पी. वासवानी बाबत घणो कुझु जाण रखण लाइ उबारा आहिनि। गडोगडु समाजी तौर ते पहिंजे कर्तव्य ऐं जिम्मेवारिनि सां भजन्दड़ माण्हुनि खे बि असांजी नई टही कृपालु संत साधु वासवानी ऐं दादा जे. पी. वासवानी बाबत जाण डेई उननि भटकियलि प्राणिनि खे प्रभु दादा श्याम सां गडाइण जो सच्चो दगु बुधाए रही आहे, इया इलाइदा खुशीअ जी गाल्हि असां सिन्धियत जे रखवारनि लाइ फखरु जो बाइस बि आहे। साधु वासवानी ऐं दादा जे. पी. वासवानी साहिब बाबत कलमबद्ध करे आखाणु चवण नामुमकिन आहे, तंहिं हून्दे बि दादा चेतनलाल जयसिंघानी (बीकानेर) जे आदेष मुताबिक ऐं जे. पी. वासवानी साहिब जे आशीर्वाद सां श्रीगणेश भगवान ऐं देवी सरस्वती खे निमी करे मुहिंजो कलम पहिंजे सफरु ते हल्यो आहे। हाणे मंजिल तांईं त पाण कृपालु संत साधु वासवानी ऐं दादा जे. पी. वासवानी साहिब ही पहुंचाइन्दा। दादा सीएल जयसिंघानी साहिब इनि कम लाइ मूखे हिमथायो एंे अगिते बि पहिंजो आषीर्वाद डिन्दा रहिन्दा, इन्हींअ विष्वास सां मां भरियलि आहियां। जय दाद ष्याम। जय जय।

– मोहन थानवी

कृपालु संत

साधु टी. एल. वासवानी

सीनु – 1

दादा जषन, जेपी वासवानी साहिब जे चाकु थी विलायत मूं अचण ते सत्संग ऐं भंडारो

दादा जे. पी. वासवानी विदेष मूं चाकु थी पहिंजे आश्रम, पूना में पहुंता आहिनि। इनि खुषीअ में हिकुड़े धार्मिक विचारनि वारे सेठ खेमचंद जे आलीषान घर में सत्संग ऐं भंडारो हली रहियो आहे। सेठ खेमचंद खे बीणी खुषी आहे छो जो दादा साहिब जे आसीस सां उनिखे बिजनेस में बि तमाम घणो फाइदो थियो आहे।

सत्संग ऐं भंडारे जी खास गाल्हि आहे, साधु टी. एल. वासवानी साहिब जा भजन, नूरी गं्रथ जा दोहा था बुधण में अचनि। इनिसां गडु कहिं कहिं वक्तु संतनि जा रिकार्डेड प्रवचन बि स्पीकर ते गूंजी रहिया आहिनि। माण्हू फल-फ्रूट, जूस, पापड़ वगैरह षाकाहार सां भरियलि प्लेट खणी हिक बे खे सिक-प्रेम सां खाराइनि था।

सेठ ऐं उनिजी फेमिली संत साधु वासवानी जा भक्त आहिनि। सत्संग – भंडारे में कॉलेज स्टूडेंट छोकरा-छोकरियूं बि आध्यात्मिक चर्चा था कनि।

बिजनेसमैन, सरकारी वडनि ओहदनि वारा आफीसर बि साधु वासवानी साहिब जी अमृतवाणी गंुजाइन्दड़ सत्संग-भंडारे में न सिर्फ मौजूद आहिनि बल्कि संतनि जी वाणी बुधी आनंदित बि थिअनि था।

इयो सत्संग – भंडारो दादा जे. पी. वासवानी साहिब जी आसीस ऐं उननिजी मौजूदगीअ में इ सेठ आयोजित करायो आहे। दादा साहिब सत्संग में पहुंचण वारा इ आहिनि। उननि जे अचण खां अगु पार्टी में जवान छोकरनि ऐं हिकुड़े 55 सालनि जे माण्हुअ एसके शर्मा जे विचु आधुनिकता यानी मॉडर्न जमाने ऐं संत साधु वासवानी साहिब जे उपदेषनि जी गाल्हि ते तकरार थी थो वंञे।

मिस्टर षर्मा चवे थो, – तव्हां अजु जा छोकरा आध्यात्मिकता जियूं गहरीयूं गाल्हियूं छा समझी सघन्दव। साधु वासवानी साहिब जेके गाल्हियूं पहिंजी नन्ढुड़ी उमर में चयूं उव्हे ऐं उननि जो सृजन नूरी ग्रंथ अजु बि सजी दुनिया लाइ ज्ञान-ज्योति आहे।

जवान छोकरा-छोकरियूं चवनि था, – जंहिं संत टीनएज में इ आल इज वेल जहिड़ियूं सिख्या डिन्दड़ गाल्हियूं चयूं असीं उन्हींअ इ संत जी मातृभूमि भारत जी संतान आहियूं। उननि संतनि जा उपदेष असीं न सिर्फ बुधा आहिनि बल्कि दादा जे पी वासवानी साहिब खां उननि जो सारु, व्याख्या बि रोज प्रवचन कार्यक्रम में ग्रहण कन्दा आहियूं।

मिस्टर षर्मा चवे थो, – छोकरओं, संत साधु वासवानी जे उपदेषनि ऐं उननि जे नूरी गं्रथ खे समझण ऐतरो सहूलो कोने। तव्हां अजु जा छोकरा त सिर्फ सिनेमा, क्लब ऐं मौजमस्तीअ जी गाल्हियूंनि में उलझ्या रहिन्दा आहियो। विदेषी संस्कृति जो असरु नई टहीअ ते आहे इनि करे अजु जो यूथ पहिंजी भारतीय संस्कृति, परम्परा सां चंङें ऐं समूरे रूप में वाकिफ कोने।

छोकरा जवाब में चवनि था, – माडर्न यूथ खे डोहु छो था डियो। अजु जे आर्थिक युग जी भजडौड़ में असांखा वडी पीढ़ी बि त पाण खे डिसे। असांजी टहीअ जा वडा बिजनेस में ऐतरा रमजी विया कि पहिंजनि बारनि खे प्राचीन ऋषि परम्परा ऐं उनिजे वारिसनि बाबत कुझु बुधायवूं ऐं समझायवूं इ न। तव्हां खे खबरु आहे, पुरातन ऐं सनातन भारतीय ऋषि परम्परा जो इ हिकु संत आहे साधु वासवानी।

मिस्टर षर्मा ऐं छोकरनि जियूं इनि नमूने हलन्दड़ इये गाल्हियूं गोड़ में बदलिजी थियूं वंञनि। कुझु बिया माण्हूं बि उननि जी चौधारी अची बिहनि था।

ऐहिड़े मौके ते पार्टी में दादा जे. पी. वासवानी साहिब जो आगमन थे तो त चारई पासा शांति फइलिजी थी वंञे। दादा साहिब षांतिअ जी प्रतिमूर्ति आहिनि। पार्टी में थिअलि गोड़ बाबत जाण वठनि था।

छोकरा ऐं मिस्टर षर्मा उननि खे बुधाइनि था कि कीअं अजु जी पीढ़ी ऐं भारतीय ऋषि परम्परा जी गाल्हि ते उननि में तकरार थी वियो।

दादा साहिब खिली था पवनि। उननि जी इनि रहस्यमयी खिल ते मिस्टर षर्मा लजाइजी थो वंञें त जवान छोकरा बि सिटपिटाइ था वंञनि।

माण्हू दादा साहिब खां पुछनि था, – दादा साहिब, तव्हां इनि तकरार जी गाल्हि ते खिली छो पया!

दादा साहिब चवनि था, डिसो। जहिं संत माण्हूंनि खे इ न बल्कि हरेकु प्राणीअ खे हिकु जेहिड़ो भगवान जो सृजन बुधायो हो, उन्हींअ इ संत लाइ झूनी ऐं नई टहीअ में तकरार जी गाल्हि बुधी मूखे खिल इ त इन्दी।

माण्हूं चवनि था, दादा तव्हां असांखे साधु वासवाणी साहिब बाबत जाण जियो।

दादा जे पी वासवानी साहिब चवनि था, – संत साधु वासवानी त पाण चवन्दा हुआ, जीव मात्र में फर्कु न कजे। ऐं तव्हां उननि इ संतनि जी गाल्हियूंनि खे दरकिनार करे जीव मात्र इ न बल्कि खुद उननि संतनि जे नाले ते बि झेड़ो था कयो। इननि संतनि त पहिंजी सजी हयाती तप करे भगवान खां माण्हूनि जो भलो घुर्यो।

माण्हुनि जे वरी जोर डेहण ते दादा साहिब कृपालु संत साधु वासवानी जी हयाती ऐं उननि जे उपदेषनि बाबत तफसील सां गाल्हियूं बुधाइनि था। इनि वक्ति इ पार्टी में दादा ष्याम जो भजन गूंजे थो, –

अलख धाम मां

नाल्हे मौत तिनि लाइ, अंखियूंनि जिनि जूं निहारनि,

पहाड़नि त तिनि डे, जीअं प्यारनि खे पुकारनि!

रहनि रहम में से त आल्यिूंनि अंख्यिूंनि,

सबक इक त सिक जो, से आहिनि सुख्यूं!

पया था त कोठनि, प्रभुअ जा पहाड़ा!

अचनि यादु वरी वरी, पया से त प्यारा!

करे केरु दूर, प्यारनि जी जुदाई !

जीवन आहे जिनि जी, प्रभुअ में समाये!

मरे ही बदनु थो, जिस्मु ही जले,

पर आत्मा अमर, सदा पयो हले!

काल डिस जो घर, फकत काल ढाहे,

पर आत्मा अजरु ऐं अविनाशी आहे!

मरे कीअं कोई ऊंव, न कोई कीअं साड़े,

न कोई मौत परदो, रखी उन परे

अलख धाम मां आहे, नूरी निमाणी

रहे रोज रोषन, न रह तूं वेगाणी। …( conti… )

पहिरियें भांङें खां अगिते… सिलसिलो जारी …
अलख धाम मां आहे, नूरी निमाणी

रहे रोज रोषन, न रह तूं वेगाणी।

दादा जे पी वासवानी साहिब इयो भजन अंख्यूं बूटे झूमन्दे झूमन्दे बुधी रहिया हुवा। जीअं इ भजन पूरो थे तो, दादा साहिब हथ जोड़े भगवान ऐं संत साधु वासवानी खे निमनि था। भरियलि अंख्यूं उघी करे दादा साहिब पहिरीं नूरी गं्रथ जी वाणीअ जे दोहनि जी व्याख्या था कनि । अध्यात्म जी इनि गाल्हि खे पूरो करण बैद दादा साहब तफसील सां कृपालु संत साधु वासवानी जे जन्म खां वठी उननि जी हयातीअ बाबत बुधाइण षुरू था कनि।

जीअं जीअं संतनि बाबत बुधाइन्दा था वंञनि, तीअं तीअं माण्हुनि जी अंखियूंनि जे अगियूं कृपालु संत साधु वासवानी साहिब जियूं लीलाऊं इअं तियूं थिअनि जण त सबकुझु साम्हूं ही थी रहियो आहे।

दादा जे पी वासवानी साहिब जो आवाजु गूंजी रहियो आहे। माण्हूनि जी निजरनि अगियूं ज्ञान जी ज्योतिअ सां चिमकन्दड़ दादा साहिब जी मूरति मुष्की रही आहे।

सीन -2

साधु वासवानी साहिब खे मिली ध्रुव तारे जी ज्योति

दादा साहिब 25 नवंबर सन् 1879 ई जी कार्तिक इग्यारस जे डिहुं हैदराबाद सिन्धु में देवी माता जे भक्त लीलाराम वासवानी जी धर्मपत्नी वरांबाई जी कुख मां ज्योति सां चमकन्दड़ मुख वारे बारु थांवर जे जमण जी तफसील सां संतनि जो आखाणु षुरू था कनि।

दादा जे. पी. वासवानी बुधाइनि था कि इहो ज्योति सां चमकन्दड़ मुख वारो बारु थांवर ही पहिंजे आध्यात्मिक ज्ञान जे धन सां अगिते हली संत साधु वासवानी जे रूप में प्राणिनि जो उद्धार थो करे।

पार्टी में मौजूद नन्ढुड़ा-वडा सभई माण्हूं दादा साहिब खे हथ जोड़े वेनिती था कनि, असां खे कृपालु संत साधु वासवानी साहिब बाबत समूरी गाल्हियूं बुधाइण जी कृपा कयो।

दादा साहिब माण्हुनि जी प्यास खे समझनि था ऐं संत साधु वासवानी साहिब जे बालपण खां वठी हयातीअ में गुजरियलि उननि वाकिअनि खे बयानि था कनि जेके माण्हुनि खे ऊंधाईअ मूं सोझरे में वंञण जो दगु डेखारीन्दा आहिनि।

सीनु मटिजे थो

घर में पंिहंजी माता सां गडु श्री जप साहिब, श्री सुखमनी साहिब ऐं श्री गुरुवाणी जो जाप कन्दे बारु थांवर पहिंजे रामभक्त भाऊ पहिलाजराय खां बि ज्ञान जी रोशनी हासिल थो करे। माता उननि खे चवे थी, स्कूल वंञणि खां अगु अरदास कयो, पूजा-पाठ कयो ऐं पोई नेरण कयो। इयो बुधी बालक थांवर चुहलबाजीअ सां मुश्की करे पुछे थो – माता, जे कडहिं नेरण तियारु न हुजे त छा नेरण बगैर ही स्कूल वंञूं। माता उनिखे समझाइन्दे चवेसि थी – पुट, नेरण जो टाइम त टरी सघे थो लेकिन अरदास जो टाइम कडहिं बि न टारजे। बालक थांवर माता जी इनि गाल्हि खे हयातीअ में कडहिं बि न वेसारनि जो संकल्प थो करे।

सीनु मटिजे थो

हिक रात बालक थांवर ऊभ में चिमकन्दड़नि तारनि खे निहारे थो। उनि वेल उनजी माता अची पुछेसि थी – पुट, ऊभ में छा थो डिसें! थांवर चवेसि थो, अम्मां, मूखे बुधाइ त सहीं, सभेई तारा त गुम थी था वंञनि लेकिन हीअं हिकु वडो तारो चमकन्दो ही थो रहे, इअं छो! इयो केहिड़ो तारो आहे! इनिमें ऐहिड़ी करामात छा काण आहे! सजे आकाश में सुझु, चंङु ऐं नवनि ग्रहनि वांङुरु इनि जो महताव छो थियो। माता चवेसि थी – पुट, इयो तारो ध्रुव तारो आहे। बालक ध्रुव दिल सां भगवान जी भक्ति कई हुई। इनि करे भगवान उनि खे दर्शन डिनो ऐं उनिखे दुनिया रहिण तांई ध्रुव तारो बणी ऊभ में चिमकन्दो रहिण जो वरदान डिनईं। माताजी इया गाल्हि बुधी बालक थांवर कुझु देर त ख्यालनि में गुम थो थी वंञे। वरी यकदमु मुश्की करे माता जा चरण छुए थो ऐं चवे थो – अम्मां, मां बि ध्रुव वांङुरु भक्ति कंदुसि। मां बि ध्रुव वांङुरु तारो बणी ऊभ में चिमकन्दो रहिन्दुसि। माता जी अंखयूनि में पाणी भरिजी थो वंञे ऐं उनिमें तारा था चिमकनि। माता बालक थांवर खे आशीर्वाद थी डे – पुट, तूं रुगो तारो न बणन्दें बल्कि हिक डिहुं चंद्रमां बणजी करे संसार खे थादलि ऐं रोशनी डिन्दें।

बालक थांवर खे जीअंइ माता आसीस डे थी, उन्हींइ वेल बालक जे मुखमंडल में हिक ज्योति प्रकट थी दर्शन थी डे। बालक थांवर ध्यानमगन थी उभ में ध्रुव तारे खे निहारे रहियो आहे ऐं उनिजे ललाट जे चौधर ज्योति मंडल जी चिमकन्दड़ रोशनी हिक भगवान विष्णु जे मुखमंडल ते चिमकन्दड़ ऐं घुमन्दड़ चक्र वांङुरु मातारानीअ खे दर्शन डिअे थी। मातारानी बालक थांवर खे डिसन्दे उनिजी घोर थी करे। उनि में संत-रूप डिसी निमे थी।

इनि वक्त दादा श्याम जो हिकु गीत वातावरण खे गूंजाये थो। माण्हू इनि भजन ते झूमी रहिया आहिनि।

वेसरु में आहियां मूंखंे तूं जगाय

हिन रुह अंदरु गोबिन्द गीत गाय

हाणे आहें हिन पार ! बेड़ीअ वारा —

सीन मटिजे थो

हिकु रात बालक थांवर कलशे में घर जे बाहिरियूं पाणी भरे करे अचे थो त यकदमु उनिजे साम्हूं ज्योति प्रकट थिये थी। ज्योतिअ मूं आवाज अचे थो – प्यारा बालक, तोखे इनि संसार में वडा कम करना आहिनि। बालक थांवर हथ जोड़े करे सर्वशक्तिमान ईश्वर जे स्वरूप उनि ज्योतिअ जे अगियूं निमे थो ऐं पहिंजे चिमकन्दड़ मुख ते भगवान जी वाणीअ मुताबिकु संसार जी चंङाईअ ऐं भलाईअ लाइ हयाती में सुठा कम करण जो संकल्प वठे थो। ज्योति आहिस्ता आहिस्ता आकाश में वंञी विलोप थी ती वंञे। इनि वक्त देवताऊनि जी सामूहिक प्रार्थना जो आवाज माहौल में सुवर्ग खां बि वधीक आनंददायक सुख फइलाये थो।

सीनु मटिजे थो

हिकु डिहुं माता रंधणे में रसोई पचाये थी ऐं बालक थांवर खे पासे में ही वेराहे करे खाराये थी। इनि वक्त थांवर चवेसि थो – अम्मा, अजु मां बाजार मूं लघन्दे वक्त बकरनि जे मांस ते लूण-मिरच लगाये माण्हूनि खे खाइन्दे डिठमु। मूखे बिलकुल बि सुठो कीन लगो। हिकु जीव खे मारे करे बियो जीव कीअं खाई थो सघे! अम्मा, तूं मूखे कडहिं बि मांस न खाराइजें। माता उनिखे मथूं त चवे थी कि हा, तोखे मांस न खाराइन्दमु लेकिन मन में सोचे थी, मुहिंजो बारु जे कडहिं मांस न खाइन्दो त कमजोरु थी वेन्दो। इनि करे थांवर खे खबरु न पवे ऐं मां उनिखे मांस बि खाराइन्दी रव्हां। इयो सोचे करे माता उनिखे पेठे जी भाजी चई करे मांस डे थी। थांवर जे वात में हिकु नन्ढुड़ी हड्डी अची लगे थी त हू समझी थो वंञे, माता उनिखे मांस खारायो आहे। नाराज थी चवेसि थो – माता, तूं मोहमाया में फथी आहंे। हाणे मां का बि भाजी न खाइन्दुसि। माता समझी थी वंञे, थांवर जे रूप में ही बालक कोई महापुरुष आहे। माता थांवर खे लाड करे वचनि थी डेसि, पुट, अजु खूं पोइ मां कडहिं बि तोखे मांस न खाराइन्दुमि।

सीनु मटिजे थो

दादा जे. पी. साहिब जी गाल्हि सां गडोगडु पार्टी बि हली रही आहे लेकिन घणनि माण्हूनि जो ध्यानु साधु वासवानी जी गाल्हि बुधण में आहे। पार्टी में जवाननि सां विरहण वारो एसके शर्मा बि दादा साहिब जियूं गाल्हियूं कनि लगाए बुधी रहियो आहे।

मांस न खाराइण वारी गाल्हि ते शर्मा दादा साहिब खां पुछे थो – दादा साहिब, मीट लेस डे छा इन्हींअ करे ई मनायो वेन्दो आहे।

दादा साहिब पहिंजी दिलकश खिल सां शर्मा खे निहारे बुधाइनि था – हा, छो जो अगिते हली करे बालक थांवर संत साधु वासवानी जे रूप में दुनियाभर में मशहूर थियो ऐं मांस भक्षण करण सां थिअण वारा नुकसान माण्हुनि खे बुधायवूं।

सीनु मटिजे थो, माण्हूं सुपने में गुम आहिनि

शर्मा सां गडु जवान छोकरा-छोकरियूं बि दादा साहिब जे चौधारी अची उननि खां कृपालु संत पारां कयलि कमनि बाबत तफसील सां समूरी गाल्हि बुधनि था।

दादा जे. पी. वासवानी साहिब संतनि खे स्मरण कन्दे कन्दे पाण ऐतड़े कदरु भावनाऊंनि में वही था वंञनि।

उननि सां गडु पार्टी में मौजूद हरेक माण्हू कृपालु संत साधु वासवानी साहिब सां साक्षात रूबरू थी धन्य थी थो वंञे।

चौधर रंगबिरंगी रोशनी ऐं सुवर्ग में मिलण वारे सुख जो अहसासु कराइण वारो म्यूजिक गूंजी रहियो आहे। इनि म्यूजिक में संत साधु वासवानी साहिब जा गीत बि माण्हुनि जो दिल छिकनि था।

अहसासु इन्हींअ तरहां सां तो थे जण त साम्हूं कृपालु संत साक्षात अची गीत गाई रहिया आहिनि।

इन्हींअ सुपने ऐं गीत जी मिठास में गुम पार्टी में शामिल माण्हुनि खे खबरु ई न थी पवे ऐं शांत मुख वारी हिक छोकरी उननि जे विच में अची साधु वासवानी जे गीत ते झूमे थी।

गीत———

गीत पूरो थिअण ते दादा जे. पी. साहिब पहिंजी जाइ तां उथी उनि छोकरीअ खे हथ जोड़े ऊंची कुर्सीअ ते वेहारनि था।

जवान छोकरा ऐं छोकरियूं दादा साहिब खां पुछनि था, दादा साहिब, तव्हां सां गडु इया शांत ऐं चिमकन्दे मुख वारी छोकरी केरु आहे! असां इननि खे पहिरियूं कडहिं बि कोन डिठो आहे।

दादा साहिब सभिनी खे बुधाइनि था – इया पवित्र आत्मा संत साधु वासवानी जी भेण किकी आहे। इननि जो पूरो नालो आहे पपुर। इननि जी कृपा सां अजु केतराई छोकरा-छोकरियूं स्कूल-कालेज में शिक्षा ग्रहण कनि था। माता सजी जायदाद पपुर जे नाले करे वेई हुई लेकिन इननि न सिर्फ जायदाद जो इस्तेमालु सुठनि कमनि में कयो बल्कि पहिंजे भाऊ साधु वासवानी जे प्रकृति प्रेेम खे डिसी हिक ऐहिड़ो बागीचो वड़तो जहिंमें घरु बि हो। ऐतड़ो इ न बल्कि पपुर पाण त स्कूल-कॉलेज में वंञी पढ़हण जी इच्छा पूरी कोन करे सघी हुई लेकिन आखिरी साहु भरन्दे वक्त पपुर चयो त उनिजे नाले जी सम्पत्ति बालिकाउनि ऐं महिलाउनि जी उच्च शिक्षा लाइ कम में आनी वंञे।

पार्टी में मौजूद सभई माण्हू देवी स्वरूप पपुर जे अगियां झुकी करे नमस्कार कनि था। निमण खां पोई माण्हू जीअं ईं पपुर डाहु निहारनि था, पपुर त गायब ती थी वंञें।

सीनु मटिजे थो, आरती गूंजे थी

परियूं कंहिं जाइ तूं आरतीअ जो आवाज गूंजी रहियो आहे। दादा जे. पी. साहिब पहिंजी जाइ ते मुश्की रहिया आहिनि। आरती पूरी थिए थी त सभई हथ जोड़े दादा साहिब अगियूं निमनि था।

दादा साहिब चवनि था, संसार में पपुर ऐं साधु वासवानी जेहिड़ीयूं आत्माऊं पहिंजी लीला डेखारे वरी प्रभुअ जी शरण में ई रहिन्दीयूं आहिनि। इनि भौतिक मोहमाया में उलझियलि संसार में इये आत्माऊं असां खे मोक्ष जो सच्चो दगु डेखारण प्रकट थीन्दियूं आहिनि ऐं प्राणीनि जी भलाईअ जा कम करे ज्योतिअ में लीन थी वेन्दीयूं आहिनि।

इनि वक्त पार्टी कराइन्दड़ सेठ खेमचंद आरतीअ जी थाली हथनि में झले अचे थो, दादा साहिब खे नमस्कार करे पार्टी में मौजूद सभिनी माण्हुनि खे आरती जी थाली सेकाए थो।

सेठ दादा साहिब जे चरणनि में वेही करे वेनिती थो करे – दादा साहिब। मूखे पहिंजे नितनेम अनुसार पूजा-आरती करण में वक्त लगी वियो ऐं पार्टी में पहुंचण में देरु थी वेई। मां तव्हां जी खैरमकदम लाई हाजिर न थी सघण लाई माफी थो घुरां।

दादा साहिब पहिंजे अंदाज में मुश्की करे चवन्सि था – प्रभुअ जी भक्ति में जहिंजो मनु लगी वंञे थो, उनिखे त पाण भगवान बि पहिंजी दिल में जगह डिन्दो आहे। प्यारा, तव्हां त भाग्यशाली आहियो, पूजा-पाठ ऐं आरती करे तव्हां इनि संसार जे मालिक जो दिल खटी वड़तो आहे। तव्हां माफी घुरी करे मुहिंजे मथां बारु छो था लडो। जंहिं वक्त संसार जी भलाईअ लाई तव्हां भगवान जी आरती कई उनि वेल मां प्रभुअ खे नमस्कार न करे सघयूंमु, इनि करे त मां सर्वशक्तिमान ईश्वर खां माफी तो घुरां।

दादा साहिब जे वातुं भगवान जी ऐहिड़ी भक्तिअ भरियलि गाल्हि बुधी मिस्टर शर्मा लजाए थो।

सभिनी जे विचु में अची करे उवो चवे थो – दादा साहिब, मां अजु तांई पहिंजे दगु तां भटकियलि हुयूंम। अजु तव्हां जा साक्षात दर्शन करे मुहिंजा कर्म सुधरी विया। महरबानी करे मूखे संत साधु वासवानी साहिब जे बारे में बियूं घणियूंई गाल्हियूं बुधायो।

मिस्टर शर्मा जी इनि गाल्हि ते उते मौजूद जवान छोकरा-छोकरियूं बि दादा जे. पी. वासवानी साहिब खे अरजु था कनि।

दादा साहिब पहिंजी सुंञातलि खिल जे विचु चवनि था – तव्हां सभिनी खे कृपालु संत साधु टीएल वासवानी जी तपस्याउनि बाबत जाण वठणी आहे, इयो बुधी त मूखे बि खुशी थी आहे। लेकिन डिसो, तव्हां सभई समझदार आहियो। दुनियाभर में पहिंजो ऐं पहिंजी सिन्धु भूमिअ जो नालो खटण वारे संतनि बाबत ईअं हिति पार्टी में समूरी गाल्हि करण त नामुमकिन आहे ही, गडोेगडु इननि संतनि मथां हजारनि सिफनि जा बि केतराई किताब लिखी वठूं तडहिं बि घणियूंई गाल्हियूं छुटजी वेन्दीयूं।

दादा साहिब जी इन्हींअं गाल्हि ते सेठ खेमचंद ऐं मिस्टर शर्मा समेत जवान छोकरा-छोकरियूं दादा साहिब जे पेरनि में निमी चवनि था, – दादा साहिब, तव्हां नाराज न थियो। असीं ईअं न था चवूं कि हाणे जो हाणे असां खे संतनि बाबत जाण ज्यो। तव्हां जडहिं बि मुनासिब समझो, असां खे आदेश कयो, असां तव्हांजी शेवा में हाजिर थी वेन्दा से।

दादा जे. पी. वासवानी मुश्की करे चवनि था – डिसो, तव्हां आश्रम में त इन्दा ही आहियो। उव्हो आश्रम बि संत साधु टीएल वासवानी साहिब जो ही आहे। तव्हां उते अचजो। कृपालु संत जे बारे में तव्हां खे समूरी जाण मिली वेन्दी।

दादा साहिब जी इन्हींअ गाल्हि ते पार्टी में जोरदार जयकारों थो लगे।

मिस्टर शर्मा ऐं सेठ खेमचंद हथ जोड़े दादा साहिब खे घर जे अंदर हली आराम करण लाइ था चवनि।

दादा साहिब चवनि था, आराम उननि खे कराइबो आहे जेके तन्दुरुस्त न हुजनि। तन्दुरुस्ती मानसिक ऐं शारीरिक थीन्दी आहे। जेको मानसिक यानी आध्यात्मिक नजरिये सां बीमार आहे, धर्म-कर्म में रुचि कोन अथसि, उव्हो बीमार चवाइबो आहे ऐं उन्हींअ खे ही आराम जी जरूरत थीन्दी आहे। तन ऐं मन खे तन्दुरुस्त बणाए रखण लाइ सकारात्मक विचार रखजनि। भगवान जी भक्ति में मन लगाइजे। जीअं त संत साधु वासवानी पहिंजे संदेश नूरी ग्रंथ में चई विया आहिनि। हयातीअ जो नूर भक्ति आहे। इन्हींअ करे नूरी ग्रंथ हमेशा नितनेम सां पढ़हन्दा कयो।

मिस्टर शर्मा छोकरा-छोकरिनि खे चवे थो – डिठव छोकरवों, दादा जे पी वासवानी अजु 90 खां बि वधीक उमर जा थी करे बि थकजनि कोन था। अंञण कुझु महीना अगु इ सिंगापुर में दादा साहब खे एक्सीडेंट में धक लगा हा लेकिन उननि धकनि खे बि सही वड़तो।

छोकरा चवनि था – हा हा, असीं बि दादा साहब जे एक्सीडेंट बाबत बुधो हो। इयो बि बुधो से कि दादा साहिब विदेश में लगलि धकनि खे बि प्रभुअ जो प्रसाद मंञी कबूल कयो ऐं हिम्मथ सां वरी तंदुरुस्त थी पहिंजी भारत भूमिअ ते भक्तिअ जो दरियाह वहाइण अची पहुंता आहिनि। दादा साहिब तव्हां खे असां सभई दिल सां निमूं था। असांखे आशीर्वाद डियो त असीं बि दुनियादारीअ जियूं तमाम लाहीयूं-चाड़िहियूं प्रभु भक्ति कंदे सहूलाइत सां पार करे सघूं।

दादा जे पी वासवानी माण्हूंनि खे कुझु चवण जे बदरां सर्वशक्तिमान ईश्वर डाहुं इशारो कन्दे ऐं सत्संग में लगलि साधु टी एल वासवानी साहिब जी वडी मूर्तिअ खे निमन्दे माण्हुनि खे डिसी मुश्किनि था। दादा जे पी वासवानी ऐं साधु टी एल वासवानी साहिब जे मुखमंडल जे चौधर इनि वक्ति सतरंगी रोशनी चक्र वांङरु घुमी रही आहे।

सभई माण्हूं दादा साहिब जी ऐं संत साधु वासवानी जे अगियूं दंडव्रत कंदे उननि जी जय जयकार था कनि।

दादा साहिब सभिनी खे आसीसा था डिहनि। चवनि था – तव्हां सभई ऐं बिया माण्हूं बि आरतवार जो पूना आश्रम में अचो त तव्हां खे दादा श्याम जी लीलाउनि बाबत समूरी जाण मिले।

सभई माण्हूं इया गाल्हि बुधी खुशीअ सां झूमनि था।

दादा साहिब सभिनी खे वड़ी आश्रम में अचण लाइ चवनि था ऐं सत्संग ऐं भंडारे मूं हलिया था वंञनि। उननि खे बाहिर तोणी छडण सेठ खेमचंद ऐं मिस्टर शर्मा सां गडु बिया घणाई माण्हूं बि वंञनि था।
……….. सिलसिलो जारी आहे ………..
part llnd se Aage … lllrd & last Part…
दादा साहिब सभिनी खे वड़ी आश्रम में अचण लाइ चवनि था ऐं सत्संग ऐं भंडारे मूं हलिया था वंञनि। उननि खे बाहिर तोणी छडण सेठ खेमचंद ऐं मिस्टर शर्मा सां गडु बिया घणाई माण्हूं बि वंञनि था।

सीनु मटिजे थो, पूना आश्रम वंञण जी तियारी

दादा साहिब जे बाहिर तोणी छडे अचण खां पोई सभई माण्हू सेठ खेमचंद, मिस्टर शर्मा ऐं जवान-छोकरा-छोकरिनि जे चौधारी अची था वंञनि ऐं सेठ खे चवनि था, – असीं सभई बि टिनि डिहनि बैैद आरतवार जो पूना आश्रम में जरूर हलन्दा सीं।

सेठ चवे थो – जरूर। तव्हां सभिनी सां गडु मां बि वडी बस में वेही आश्रम में हलन्दा सीं। बल्कि, तव्हां जे आड़े-पाड़े मूं बि कोई पूना आश्रम में हलण चाहे त गडु वठी अचजोसि। दादा जशन साहिब ऐं साधु वासवानी साहिब जा दर्शन त सभिनी खे करण इ घुरुजनि। त इया गाल्हि पक समझो, आरतवार जी सुभुह जो अठे लगे हित पहुंची वंञो ।

मौजूद माण्हू सेठ खेमचंद जी बि जय-जयकार था कनि।

सेठ उननिखे रोके करे चवे थो – मुंहिंजी जयकार करण सां तव्हांखे कुझु हासिल कीन थीन्दो। तव्हां त बस हिक ईश्वर ऐं उन्हींअ जो दीदार कराइण वारे गुरुजनि जी जय-जयकार कयो। कृपालु संत साधु टी. एल. वासवानी जा जयकारा लगायो। पूज्य दादा जे. पी. वासवानी साहिब जा जयकारा लगायो। इननि गुरुजननि जे करे ई संसार में शिष्यनि खे ज्ञान मिलन्दो आहे। प्रभुअ जे रूप में इननि गुरुजननि जी शेवा कयो त सभई मनोकामनाऊं पूरियूं थीन्दव।

सभई माण्हू साधु टी. एल. वासवानी ऐं दादा जे. पी. वासवानी साहिब जी जय-जयकार कन्दे पार्टीअ मूं वंञनि था।

सीनु मटिजे थो, पखी सब गडु

वक्तु जण त उडामन्दो आहे। टे डिहं गुजरी विया, माण्हूं पहिंजे कम-कार में रहन्दे बि प्रभु भक्ति लाई सुभु-शाम जो टाइम कढ़््यो। सभई आरतवार जी वाट पिया डिसनि। आखिरकार आरतवार अची वयो ऐं हिक-हिक, ब-ब करे माण्हू सेठ खेमचंदजी कोठीअ जे लॉन में गडु थिन्दा वया। लॉन में हिरन, खरगोश सां गडु मोर, कबूतर वगैरह पखी बि घुमी रहिया आहिनि। सब पखी गडु आहिनि। जण ते सब माण्हूनि खे संदेश था डिहनि, हिकु थी हलो।

फिजां में सिन्धी गीत गंूजी रहिया आहिनि। कंहिं कंहिं गीत खां पोई नूरी गं्रथ जा दोहा बि बुधण में अचनि था। हिक वण जे हेठां संत साधु टी एल वासवानी साहिब जो आदमकद तैलचित्र बि डिसण में अचे थो, जिनजे पासे में डियो ऐं अगरबत्ती बरी रही आहे। चार-पंज माण्हू उथे हथ जोड़े प्रार्थना था कनि। ऐहिड़े सुंदर वातावरण में मिस्टर शर्मा जडहिं उते पहुंतो त लीलावती ऐं सुखनदेवी नाले जी बिनि छोकरिनि उनिसां गाल्हि-बोल शुरू कई।

लीला – मिस्टर शर्मा, मुहिंजी साइरी तव्हां खां पुछे थी कि संत साधु वासवानी जो पूना आश्रम घणे लगे खुलन्दो आहे!

शर्मा चवेसि थो – लीलां, पुटि तुहिंजी साइरी पाण नथी पुछी सघे! खैर बुध, आश्रम त चौबीह कलाक खुल्यलि ही आहे। हा, प्रार्थना, प्रवचन आदि जा कार्यक्रम पहिंजे तय टाइम ते थिन्दा आहिनि। पुटि, सुखन, तूं मूखां पाण छो न इया गाल्हि पुछी!

सुखन चवेसि थी, – सांईं, तव्हां उनि डिहुं पार्टी में संतनि बाबत मिठो न गाल्हायो प्या, इनि करे मूखे डप हो अजु बि तव्हांजो मूड खराब न हुजे। तव्हां मॉडर्न जमाने जा विचार रखन्दा आहियो ऐं संत-साधुनि जी गाल्हियूं तव्हांजे मुताबिक अजु साइंस जे जमाने में माइनो न थियूं रखनि।

मिस्टर शर्मा सुखन जी गाल्हि बुधी कननि ते हथ रखी भगवान खां माफी घुरन्दे चवे थो – पुटि, ब डिहु अगु पार्टी में जेके गाल्हियूं थियूं उव्हे संतनि जे अपमान जियूं न बल्कि उननि बाबत कुझु वधीक जाण वठण लाइ कयूं हुइयूं। तव्हां सभिनी खे सुठो न लगो त मां माफी तो घुरां।

लीला चवेसि थी, – मिस्टर शर्मा, तव्हां वडा थी करे माफी घुरन्दा, छा असां खे इयो सुठो लगन्दो!

मिस्टर शर्मा इनि गाल्हि ते जोर सां खिले थो, चवे थो – वाह… वाह पुटि। संस्कार हुजनि त तव्हां जेहिड़ी धीअनि वांङुरु सभिनी माण्हुनि में हुजनि। पुटि, डिसो, असीं साधु वासवानी साहिब जे आश्रम में दादा जे. पी. वासवानी साहिब जा प्रवचन बुधण था वंञु। कृपालु संत जा दर्शन बि थी वेन्दा। ऐहिड़े संत जा दर्शन, जिन्हनि न सिर्फ सिन्धुवासिनी खे बल्कि समूरे हिन्दुस्तान ऐं सभिनी मुल्कनि जे माण्हुनि खे सुखी जीवन जीअण जी राह अध्यात्म ऐं प्रभु भक्तिअ मार्फत डेखारी आहे।

शर्मा, लीला ऐं सुखन जियूं गाल्हियूं अञण हलनि हा लेकिन इनि विच में इ कोठीअ मूं सेठ खेमचंद बाहिर अचे थो। सेठ खे डिसी लॉन में मौजूद 15-20 माण्हू उनि डाहुं मुखातिब थी ता वंञनि।

सेठ सभिनी सां हरिओम, दादा श्याम, राधेश्याम करे चवे थो – बाहिर बस अची वेई आहे। कुझु माण्हू पहिरियूं खांई बस में वेठा आहिनि। टाइम बि थी वयो आहे। सभई जणां हली बस में वेहो त पाण कलाकखनि में आश्रम पहुंची वेन्दा से। हा, माफ कजो, मां पहिंजी घरवारी ऐं धीअ-पुटि सां कार में तो हलां।

मिस्टर शर्मा चवेसि तो, – सेठ साहिब। तव्हां कार में भले अचो। तव्हां त तकरीबन 50 माण्हुनि लाइ बस जो इंतजाम करायो आहे, इनि सुठे, भले ऐं धार्मिक कम लाइ संत साधु टी एल वासवानी साहिब तव्हां खे खूब आशीर्वाद डिन्दा।

सभेई माण्हूं दादा श्याम, दादा जशन जा जयकारा लगाइन्दा पूना आश्रम डाहु रवाना थिअनि था।

फिजां में इनि वक्ति दादा ष्याम जा गीत गूूंजी रहिया आहिनि।

जय दादा ष्याम जय दादा ष्याम

पूरो थियो —— मोहन थानवी

नाटक निर्देषन में सहकारु लाइ ब अखरु…….

इनि काव्यात्मक संगीतमयी नाटक कृपालु संत लाइ रंगमंच खे अगिते ऐं पुठिते टिनि टिनि, कुल छहनि भांङनि में विरहाये करे जुदा जुदा सीन मंचित करना आहिनि। मंच विरहाइण में नक्शो ठयलि पर्दा, पीली, अच्छी ऐं हल्की गुलाबी रोशनी जो इस्तेमालु करण सहूलो थीन्दो। सिन्धु प्रांत जो वडो नक्शो समूरे रंगमंच जे पार्श्व में हर सीन में लगयलि रहिन्दो। हिति बुधाइलि सीन जे अलावा बि बाकी पर्दा ऐं रोशनियूं सीन जी घुरुज मुताबिक डाइरेक्टर पहिंजी सहूलियत सां वापरे तो सघे।

नाटक लाइ जरूरी सामग्री

इया सामग्री जुदा जुदा भी ठाहराये सघबी आहे या इलेक्ट्रोनिक मशीन जे जोर ते सिनेमा वांङुरु सीन मटाइण लाइ सिनेमा जी बिग स्क्रीन जो इस्तेमालु भी करे था सघूं। सिन्धु प्रांत जो वडो नक्शो समूरे मंच जे पुठें भांङे में हरेकु सीनु में लग्यलि रहे त वधीक सुठो रहिन्दो। बी सामग्री –

मंच जो विचों हिस्सो थ्री स्आर होटल जे हॉल वांङुरु सजाइण लाइ मॉॅडर्न सीन-सीनरी वगैरह

दादा साहिब जे पहिंजे घर, माता-पिता सां गडु सिख्या वठन्दे छपयलि पर्दो

बरलिन विश्व धर्म सम्मेलन 1910 जो सीनु ठहयलि वडो पर्दो

हरिद्वार सम्मेलन में नेहरूजी सां गडु दादा साहिब जो फोटो ठहयलि पर्दो

पहिंजे आश्रम में प्रवचन कन्दे दादा साहिब ऐं दादा जशन साहिब जो पर्दो

मीरां स्कूल में बारनि खे सिख्या डीन्दे दादा साहिब जो पर्दो

हिरण, गाइ, मोर ऐं पखिनि जा नन्ढुड़ा पुतला

दादा साहिब जी समाधि स्थल ते दादा जशन वासवाणी जो गीता-विवेचना कन्दड़ पर्दो
hie Natak Hit Puro Thiyo Aahe.

मानसिक रोग पीड़ित 45 लोग लाभान्वित, अब शिविर 18 को काकड़ा में लगेगा

मानसिक रोग संबंधी भ्रांतियां दूर करना जरूरी

बीकानेर 11.07.18। मानसिक स्वास्थ्य एंव नशामुक्ति विभाग द्वारा 11.07.2018 को राष्ट्रीय मानसिक स्वास्थ्य कार्यक्रम के अर्न्तगत जिला मानसिक स्वास्थ्य कार्यक्रम के प्रथम शिविर का शुभारम्भ वृन्दावन एन्क्लेव स्थित अपना घर वृद्ध आश्रम में किया गया।
इस शिविर में 45 मनोरोगियो को लाभान्वित किया गया।
शिविर की विधिवत शुरूआत मानसिक स्वास्थ्य एवं नशामुक्ति विभागाध्यक्ष एंव वरिष्ठ आचार्य डॉ. के. के वर्मा, उप मुख्य चिकित्सा एंव स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. इन्दिरा प्रभाकर, सह आचार्य डॉ. हरफूल सिंह विश्नोई, डॉ. गोपाल गोयल तथा क्लिनिकल साइकोलाजिस्ट डॉ. अन्जु ठकराल ने दीप प्रज्वलित कर किया।
डॉ. के. के वर्मा ने कार्यक्रम के मुख्य उद्धेश्यों के बारे मे बताया की मानसिक रोग संबंधित सेवाओं का विकेन्द्रीकरण करना, आमजन तक इन सेवाओं को प्रभावी रूप से पहुंचाना, नये विशेषज्ञों को तैयार करना, चिकित्सा अधिकारीयों तथा अन्य मेडिकल स्टॉफ को मानसिक स्वास्थ्य संबंधि सेवाओं के क्षेत्र में प्रशिक्षित करना आदि प्रमुख है।
डॉ. इन्दिरा प्रभाकर ने वृद्धजनों व आमजन से निवेदन किया कि अगर किसी में भी मानसिक स्वास्थ्य से जुडी किसी भी प्रकार की आसामान्यता दिखे तो वे खुलकर विशेषज्ञों से परामर्श लें।
जिला मानसिक स्वास्थ्य कार्यक्रम के नोडल अधिकारी डॉ. हरफूल सिंह विश्नोई ने मानसिक स्वास्थ्य से संबंधित परेशानियों का बढता स्तर समाज तथा हम सभी के लिए अत्यंत चिंता का विषय बताया।
सह आचार्य डॉ. श्री गोपाल गोयल ने समाज को मानसिक रोगों से संबंधित भ्रान्तियों से मुक्त करना, जरूरी बताया।
डॉ. अन्जु ठकराल ने मानसिक रोगों को छुपाने की बजाय ज्यादा से ज्यादा इनकी अभिव्यक्ति तथा सही तरीके से इलाज लेनेपर जोर दिया।
इसी के अन्तर्गत 18 जुलाई 2018 को पी. एच. सी. काकडा तथा 25.07.2018 को पी. एच. सी. रासीसर पुरोहितान में आगामी शिविर का आयोजन किया जायेगा।

जिला चिकित्सालय में भर्ती मरीजों को फल वितरण

बीकानेर, भारतीय जनता पार्टी के युवा नेता प्रकाश बारूपाल ने एस.डी.एम.जिला राजकीय चिकित्सालय के सभी वार्डाें में भर्ती मरीजों को निःशुल्क फल तथा बिस्कीट वितरण एवं उनके शीघ्र स्वास्थ्यलाभ प्राप्त करने की कामना कर अपना 37वां जन्मदिवस मनाया। इस अवसर पर चिकित्सालय के अधीक्षक एवं पीएमओ बीएल हटीला ने बारूपाल को बधाई दी । चिकित्सालय के विनय थानवी ने बताया कि इस अवसर पर डाॅक्टर संजय खत्री, सुरेन्द्र हटीला, दीपक गहलोत, शिव जनागल निर्मल संचेती, दिनेश जनागल, बबलू जनागल आदि का विशेष सहयोग रहा।